Air Force

अब दुश्मनों के परमाणु बंकरों का होगा काम तमाम, सुखोई विमान से ब्रह्मोस मिसाइल का पहला परीक्षण कामयाब

BrahMos मिसाइल

नई दिल्ली। दुनिया का सबसे फास्ट सुपरसोनिक ब्रह्मोस मिसाइल का आज (बुधवार) को लड़ाकू विमान सुखोई- 30 MKi से सफल परीक्षण किया गया। इस सफल परीक्षण की पुष्टि रक्षा मंत्रालय द्वारा कर दी गई है। एक बयान में कहा गया है कि मिसाइल को सुखोई- 30 MKi फाइटर प्लेन द्वारा छोड़ा गया। इसी के साथ भारत ने इतिहास रच दिया है। हवा से सतह पर मार करने वाली ब्रह्मोस मिसाइल को दुश्मन क्षेत्र के अंदर बने आतंकी शिविरों पर टारगेट किया जा सकता है। इसी के साथ भारत पहला देश बन गया है, जिसके पास जमीन, समंदर तथा हवा से चलाई जाने वाली सुपरसोनिक मिसाइल है। इस विश्व कीर्तिमान का जिक्र रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने DRDO को बधाई संदेश में भी की।





अंडरग्राउंड परमाणु बंकरों को ध्वस्त किया जा सकता है और युद्धपोतों को भी निशाना बनाया जा सकता है। पहले खबर आई थी कि अगर टेस्ट कामयाब हो गया तो शुरुआती लेवल पर 42 सुखोई फाइटर जेट्स पर ब्रह्मोस मिसाइल को लगाया जाएगा। जून 2016 से दो सुखोई लड़ाकू विमान के साथ इसका ट्रायल रन चल रहा था।

उधर, रक्षा मंत्रालय का कहना है कि इस टेस्ट से भारतीय वायुसेना की हवाई युद्ध की ऑपरेशनल क्षमता काफी बढ़ जाएगी। ढाई टन वजनी यह मिसाइल हथियार ले जाने के लिए मॉडिफाई किए गए एमक्यू- 30 विमान पर ले जाया गया सबसे अधिक वजन वाला हथियार है।

 

Comments

Most Popular

To Top