Forces

DRDO ने सेना के लिए बनाए हैं ये 9 बड़े हथियार, फिर सौंपी गई है नई जिम्मेदारी

हाल ही में रक्षा मंत्रालय ने इजरायल के साथ स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सौदा रद्द किया है। मंत्रालय चाहता है कि अब यह मिसाइल देश में ही निर्मित की जाए और इसकी जिम्मेदारी DRDO को सौंपी गई है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) इससे पहले भी सेना के लिए कई बड़े हथियारों का निर्माण कर चुका। आइये नजर डालते हैं डीआरडीओ द्वारा निर्मित कुछ बड़े हथियारों पर-





मुख्य युद्धक टैंक ‘अर्जुन’ 

एक तीसरी पीढ़ी का मुख्य युद्धक टैंक। इसे डीआरडीओ द्वारा विकसित किया गया है। अर्जुन टैंक में 120 मिमी में एक मेन राइफल्ड गन है इसकी अधिकतम गति 67 किमी प्रति घंटा यानी 42 मील प्रति घंटा है । कमांडर, गनर, लोडर और चालक का एक चार सदस्यीय चालक दल इसे चलाता है। इसका नाम महाभारत के पात्र अर्जुन के नाम पर रखा गया है। इस टैंक की अधिकतम गति 67 किमी प्रति घंटा है।

Comments

Most Popular

To Top