Army

सेना भर्ती प्रक्रिया में पाया गया फर्जीवाड़ा तो सरकारी नौकरी से हो जाएंगे वंचित

सेना भर्ती रैली के लिए एंट्री

चरखी दादरी। सेना भर्ती में फर्जी दस्तावेजों से इंट्री करने की लगातार मिल रही शिकायतों को ध्यान में रखते हुए मुख्यालय हेडक्वॉर्टर की ओर से कई नए नियम लागू किए हैं। फर्जीवाड़े का मामला दर्ज होने के बाद ऐसा कोई भी व्यक्ति मामले चलने तक किसी भी सरकारी नौकरी में भाग नहीं ले सकेगा।





अब इन नियमों के मार्फत होगी बहाली

सेना भर्ती मुख्यालय की ओर से हाल ही में जारी नए नियमों में भर्ती प्रक्रिया शुरू होने से लेकर सभी स्टेज तक उम्मीदवार का बार कोड स्कैन किया जाएगा और साथ में उम्मीदवारों को आधार कार्ड से फिंगर प्रिंट प्रक्रिया भी इंट्री होने से लेकर लिखित परीक्षा तक लिए जाएंगे। जबकि कई नियमों में फेरबदल किए गए हैं। भर्ती के लिए जब युवाओं की एंट्री कराई जाती थी तो उस वक्त बार कोड स्कैन किया जाता था। पहले हुई भर्तियों में बार कोड महज एक बार ही स्कैन किया जाता था। जिसके बाद उम्मीदवार एडमिट कार्ड में डेट में बदलाव करके किसी अन्य रास्तों से रेस ग्रुप में भाग लेते थे।  ऐसा करने पर कुछ उम्मीदवारों को सेना ऑफिसरों ने पकड़ लिया था। जिसके बाद नियम में चेंजिंग करते हुए बहाली में हिस्सा लेने वाले उम्मीदवारों का हर स्टेज पर कोड स्कैन किया जाएगा।

दलाल पकड़े जाने पर हो जाते हैं गायब

सेना भर्ती के आयोजन के समय दलाल भी सक्रिय हो जाते हैं। पैसों के लालच में दलाल युवाओं को नौकरी का झांसा देते हैं। भर्ती प्रक्रिया के दौरान जब उम्मीदवार पकड़ा जाता है तो दलाल गायब हो जाते हैं। उसके बाद युवक का भविष्य खराब हो जाता है, साथ में पुलिस चौकी और अदालत के चक्कर काटने पड़ते हैं। जिसमें परिवार का पैसा भी काफी खर्च हो जाता है।

एक दर्जन फर्जीवाड़ा के मामले सामने आए

सेना भर्ती प्रक्रिया में एक साल के दौरान दर्जन भर केस फर्जी दस्तावेज पेश कर भर्ती होने के कारण सामने आए हैं। सेना भर्ती कार्यालय के निदेशक कर्नल एकेएस पिल्लई की मानें तो सेना की भर्ती में शामिल होने वाले युवा अपने दस्तावेज में गड़बड़ियां करते थे।

कर्नल पिल्लई ने कहा कि इस बार सेना भर्ती प्रक्रिया में किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा करने वाले युवा के खिलाफ तुरंत FIR दर्ज करवाई जाएगी। मई माह में भिवानी में होने वाली सेना भर्ती के दौरान कई नए नियम लागू होंगे।

वहीं, कई नियमों में सुधार करते हुए सभी प्रक्रिया के दरम्यान उम्मीदवार पर पैनी नजर रखी जाएगी। बहाली के दौरान दौड़ फाइनल करने वाले उम्मीदवार के हाथ पर ऐसा पट्टा बांधा जाएगा जो न तो उतार सकता है और न ही खराब हो सकता है। ऐसे में उम्मीदवार बदलने की गुंजाइश भी खत्म हो जाएगी।

Comments

Most Popular

To Top