DEFENCE

इजरायल से इसलिए रद्द हुई 500 मिलियन डॉलर की डील

नई दिल्ली। देश में ‘मेक इन इंडिया’ की सफलता को देखते हुए रक्षा मंत्रालय ने इजरायल के साथ 500 मिलियन डॉलर वाली स्पाइक मिसाइल डील रद्द कर दी है। स्पाइक एक एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल जिसे इजरायल से खरीदने के लिए सौदा किया गया था लेकिन अब इस मिसाइल को देश में ही विकसित किया जाएगा। रक्षा मंत्रालय ने इसका जिम्मा डीआरडीओ को दिया है। रक्षा मंत्रालय चाहता है कि डीआरडीओ मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (MPATGM) को देश में ही तैयार करे।





पिछले वर्ष इजरायल से राफेल एडवांस्ड डिफेंस सिस्टम की डील होने के बाद स्पाइक मिसाइल की डील को भारत-इजरायल के संबंधों के लिए महात्वपूर्ण रूप में देखा जा रहा था। इस डील के बाद ही इजरायल के राफेल और कल्याणी ग्रुप के साथ भारत में ही मिसाइल निर्माण पर सहमति बनी थी। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक इस डील से डीआरडीओ के स्वदेशी हथियार बनाने की तैयारी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा था। इसीलिए मंत्रालय ने ये सौदा रद्द कर दिया है। कहा जा रहा है कि डीआरडीओ इस टेक्नोलॉजी से लैस मिसाइल को तीन से चार साल के अंदर तैयार कर पाएगी।

बता दें कि स्पाइक मिसाइल तीसरी पीढ़ी की बहुत खतरनाक मिसाइल है। ढाई किलोमीटर की रेंज तक यह मिसाइल दुश्मन  के लिए खतरनाक साबित होगी। यह दिन और रात दोनों ही समय ये अपने टारगेट को भेदने की क्षमता रखती है। फिलहाल इस डील के रद्द होने से भारतीय सेना के आधुनिकीकरण करने के प्रयासों को बड़ा झटका माना जा रहा है।

Comments

Most Popular

To Top