DEFENCE

K- 4 बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण, अब खैर नहीं भारत के दुश्मनों का

K 4 बैलिस्टिक मिसाइल

नई दिल्ली। भारत ने परमाणु हमला करने में सक्षम बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया है। कल आंध्र प्रदेश के तट से 3,500 किमी मारक क्षमता वाली K- 4 बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया। इसे नौसेना की ताकत बढ़ेगी। मिसाइल को भारतीय नौसेना की स्वादेशी आईएनएस अरिहंत श्रेणी की परमाणु संचालित पनडुब्बी पर तैनात किया जाएगा।





ओडिशा के चांदीपुर रेंज में इस मिसाइल का परीक्षण किया गया। मिसाइल का परीक्षण दिन में समुद्र के अंदर मौजूद प्लेटफॉर्म से किया गया। यह मिसाइल सटीक निशाने को भेदने में सक्षम है। मिसाइल को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने तैयार किया है।

गौरतलब है कि भारतीय रक्षा शोध एवं विकास संगठन ( डी आऱ डी ओ) के वैज्ञानिकों ने 12 साल पहले K- 15 नाम की सबमरीन बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया था। इस मिसाइल की मारक दूरी 750 किलोमीटर है। K-15 मिसाइल का नाम सागरिका रखा गया है और इसे भी पहले पोंटून से छोड़ कर देखा गया था। सूत्रों के मुताबिक के-15 सागरिका मिसाइल ने अरिहंत परमाणु पनडुब्बी पर 2018 के शुरू में तैनात कर गश्ती भूमिका में हिंद महासागर में भेजा गया था।

यह हैं विशेषताएं

K- 4 मिसाइल 200 किलो वजनी परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है। साथ दुश्मन के रडार पर मिसाइल आसानी से नहीं आती। अलाव इसके यह मिसाइल पनडुब्बी से छोड़ी जा सकती है।

क्या होती है बैलिस्टिक मिसाइल

जब किसी मिसाइल के साथ दिशा बताने वाला यंत्र लगा दिया जाता है तो वह बैलिस्टिक मिसाइल बन जाती है। इस मिसाइल को जब अपने स्थान से छोड़ा जाता है या दागा जाता है तो यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण नियम के अनुसार अपने पूर्व निर्धारित लक्ष्य पर जा कर गिरती है। भारत के पास पृथ्वी, अग्नि और धनुष जैसी बैलिस्टिक मिसाइलें हैं।

Comments

Most Popular

To Top