DEFENCE

Special Report: भारत-चीन कोर कमांडरों की बैठक में तनाव दूर करने पर मंथन

भारत-चीन का झंडा
फाइल फोटो

नई दिल्ली। मास्को में भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक के 11 दिनों बाद भारत और चीन के बीच सेनाओं के कोर कमांडर स्तर की बैठक सोमवार को देर शाम तक चली जिसमें पहली बार भारतीय विदेश मंत्रालय के एक आला राजनयिक नवीन श्रीवास्तव ने भी भाग लिया।





इस बैठक में दोनों ओर से तनाव दूर करने पर पुराने प्रस्ताव दुहराए गए। देर शाम तक दोनो पक्षों ने इस बैठक के नतीजों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी थी। इस बैठक में भारत की ओऱ से लेह स्थित कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और लेफ्टिनेंट जनरल एम के मेनन ने भाग लिया जब कि चीन की ओर से साउथ शिन्च्यांग डिस्ट्रिक्ट कोर कमांडर मेजर जनरल ल्यु लिन ने अगुवाई की।

गौरतलब है कि अब तक कोर कमांडरों की पांच दौर की बैठकों में विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि शामिल नहीं होते थे। विदेश मंत्रालय में पूर्वी एशिया विभाग के संयुक्त सचिव नवीन श्रीवास्तव चीन पर भारत की नीति तय करने वाले डिवीजन के प्रमुख हैं। वह सीमा मसले पर भारत और चीन के बीच तालमेल औऱ समन्वय के लिये गठित वर्किंग मैकेनिज्म के प्रमुख भी हैं।

सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में मुख्य तौर पर भारत की ओर से पांच बातें कही गईं। पहली- चीन को सभी टकराव वाले इलाकों से पीछे हटना होगा , दूसरी- देपसांग से पैंगोग त्सो तक चीन अपनी सेनाएं हटाए गश्ती के सभी स्थानों तक भारतीय सेना को बिना रोकटोक जाने दिया जाए , और  तीसरी- बीच रास्ते में मिलने का चीनी प्रस्ताव स्वीकार नहीं, चौथी- विदेश मंत्रियों के बीच जिन पांच बिंदुओं पर सहमति हुई थी उसका सख्ती से पालन, और पांचवीं- अब तक हुई सहमतियों औऱ समझौतों का सख्ती से पालन ।

Comments

Most Popular

To Top