DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: पूर्वी लद्दाख में तनाव बढ़ा- टैंक, तोपों की तैनाती

बोफोर्स तोप
फाइल फोटो

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख की पैंगोंग झील के दक्षिणी  किनारे पर भारतीय सेना द्वारा चीनी सेना को चकमा देने वाली कार्रवाई करने के बाद इलाके में सैन्य तनाव बढ गया है।  पूर्वी लद्दाख के स्पांगुर गैप और अन्य इलाकों में चीनी सेना द्वारा टैंक तैनात किये जाने के बाद भारतीय सेना ने भी टैंक और टैंक नाशक मिसाइलों की तैनाती कर चीन को संदेश दिया है कि भारतीय सेना किसी भी कार्रवाई के लिये तैयार है। इस इलाके में भारतीय सेना की चीनी सैन्य हलचल पर पूरी नजर है और वहां   पूरी चौकसी बरत रही है।





पूर्वी लद्दाख के ताजा हालात पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने आला रक्षा सहयोगियों के साथ गहन चर्चा की है। गौरतलब है कि वह चार सितम्बर को मास्को जा रहे हैं जहां उनकी चीनी रक्षा मंत्री से मुलाकात  हो सकती है।

गौरतलब है कि 29 – 30 अगस्त की रात को चीनी सेना के करीब पांच सौ जवानों द्वारा  पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी किनारे की ओर आगे बढने की खुफिया जानकारी मिलने के बाद भारतीय सेना ने भी अपने सैंकडों जवान वहां भेजे और वहां की कुछ चोटियों पर कब्जा कर अपने सैनिकों को वहां बैठा   दिया।

चीनी सेना द्वारा दक्षिणी किनारे पर अपने सैनिकों को भेजकर  अहम चोटियों पर कब्जा करने की कोशिशों को भारतीय सेना द्वारा नाकाम किये जाने के बाद चीनी सेना और चीनी विदेश मंत्रालय ने  भारत को चेतावनी दी है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन नहीं करे। चीन  ने इसे भडकाने वाली कार्रवाई की संज्ञा दी है औऱ भारत से कहा है कि पिछले  दिनों दोनों पक्षों के बीच  सैन्य और राजनयिक स्तर की बैठकों में जो सहमति बनी थी भारत ने उसे तोडा है।

 गौरतलब है कि चीनी सेना ने गत पांच मई से ही पूर्वी लद्दाख के कई इलाकों में अतिक्रमण  किया है और वहां  कब्जा कर अपनी सैन्य तैनाती बढा रहा है।

इस इलाके में तनाव के हालात पैदा हो जाने के बाद चीनी और भारतीय   ब्रिगेड कमांडरों की सोमवार को बैठक हुई थी जो दूसरे दिन भी चली लेकिन इसका कोई नतीजा सामने नहीं आया है।

पैंगोंग झील के इलाके में चीन के सेनिकों को पीछे धकेलने के लिये अपने स्पेशल फ्रंटियर फोर्स उर्फ विकास रेजीमेंट के विशेष  प्रशिक्षित सैनिकों को भेजा था। इसकी स्थापना 1962 में हुई थी। इस रेजीमेंट में तिब्बती और गुरखा नागरिक भर्ती होते हैं।

Comments

Most Popular

To Top