DEFENCE

Special Report: स्वदेशी ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण

ब्रह्मोस मिसाइल

नई दिल्ली। देश में ही बने बूस्टर और एयरफ्रेम से विकसित सतह से सतह पर मार करने वाली ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का ओडिशा के बालासोर स्थित अंतरिम परीक्षण स्थल से बुधवार सुबह 10.30 पर सफल परीक्षण किया गया।





ब्रह्मोस मिसाइल में घरेलू हिस्सा बढ़ाने की यह एक और मिसाल है। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि ब्रह्मोस लैंड एटैक क्रूज मिसाइल ने अपने निर्धारित लक्ष्य पर आवाज से 2.8 गुना गति से हमला किया।

इस उपलब्धि के लिये रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रक्षा शोध एवं विकास संगठन (DRDO) के वैज्ञानिकों को बधाई दी है। प्रवक्ता ने बताया कि बुधवार को किये गए परीक्षण की बदौलत के बाद घरेलू निर्मित बूस्टर और एयरफ्रेम से ब्रह्मोस मिसाइल का उत्पादन किया जाएगा। आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में यह एक और कदम है।

गौरतलब है कि ब्रह्मोस मिसाइल का विकास भारत और रूस के मिसाइल वैज्ञानिकों ने साझा तौर पर किया है। इस मिसाइल का भारत में उत्पादन भारत रूस की संयुक्त कम्पनी द्वारा किया जाता है। ब्रह्मोस मिसाइल तीन सौ किलोमीटर दूर तक मार कर सकती है और इसकी तीनों सेनाओं के लिये किस्मों का विकास किया गया है।

ब्रह्मोस मिसाइल की वायुसैनिक किस्म को सुखोई-30एमकेआई लडाकू विमान पर तैनात किया जा चुका है। इसके पहले युद्धपोतों पर तैनात करने वाली किस्म का भी विकास किया जा चुका है।

Comments

Most Popular

To Top