DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: एंटी रेडिएशन मिसाइल का सफल परीक्षण

फाइल फोटो

नई दिल्ली। दुश्मन के  रेडारों, संचार प्रणालियों और अन्य रेडियो तरंगों को छोड़ने वाली अन्य  प्रणालियों को बेअसर करने वाली  नई पीढी की एंटी रेडिएशन मिसाइल (RUDRAM) का भारतीय मिसाइल वैज्ञानिकों ने सफल परीक्षण  किया है।  ओडिशा के ह्वीलर आइलैंड अंतरिम मिसाइल परीक्षण स्थल से  शुक्रवार को किये गए इस मिसाइल का परीक्षण भारतीय वायुसेना के सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से किया गया।





 रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO)  द्वारा स्वदेशी तकनीक से विकसित यह मिसाइल भारतीय वायुसेना के लिये विकसित  पहली नई पीढ़ी की एंटी रेडिएशन मिसाइल है। इस मिसाइल को सुखोई-30 एमकेआई विमान से छोडने के लिये इसके साथ जोडा गया है।  लांच करने की परिस्थितियों के मुताबिक इसकी प्रहारक दूरी निर्भर करेगी। इस मिसाइल में INS- GPS दिशा निर्देश प्रणाली है और लक्ष्य पर हमला करने के लिये पैसिव होमिंग  हेड लगा है।  इस मिसाइल ने अचूक निशाने से  रेडिएशन के लक्ष्य  पर हमला किया।

इस मिसाइल के परीक्षण से भारत ने दुश्मन के रेडार और संचार तंत्रों को बेअसर करने के लिये  लम्बी दूरी की विमान से छोडी जाने वाली एंटी रेडियेशन मिसाइल की स्वदेशी क्षमता हासिल कर ली है।  भारतीय वायुसेना के मिसाइल भंडार में इस  मिसाइल के शामिल होने से दुश्मन के हवाई रक्षा तंत्र को पूरी तरह बेअसर किया जा सकता है और इसके बाद  भारतीय लड़ाकू विमान  दुश्मन के वायुसैनिक अड्डो  पर बेधड़क हमला  कर सकते हैं।

Comments

Most Popular

To Top