DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: सीमाओं की बेहतर चौकसी की नई योजना

बीएसएफ जवान बार्डर पर पहरेदारी करते हुए
फाइल फोटो

नई दिल्ली। सीमाओं की बेहतर चौकसी औऱ प्रभावी सुरक्षा उपायों को लागू करने के लिये सरकार  समग्र एकीकृत सीमा प्रबंध  प्रणाली( CIBMS)  लागू कर रही है। इसके तहत जिन सीमांत इलाकों में भौतिक तौर पर कंटीले बाड़ लगाना मुमकिन नहीं हो सकता है वहां  इस प्रणाली को लागू किया जाएगा।





यहां वाणिज्य संगठन फिक्की द्वारा स्मार्ट बार्डर मैनेजमेंट पर आयोजित एक राष्ट्रीय सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए गृह राज्य मंत्री  जी किशन रेड्डी ने कहा कि  इन सीमाओं पर होने वाली सभी हलचल के रिकार्ड सभी सुरक्षा औऱ गुप्तचर एजेंसियों को बांटे जा सकते हैं।  उन्होंने बताया कि  सीआईबीएमएस के तहत  मानव संसाधन, सेंसर,  नेटवर्क , इंटेलीजेंस  और कमांड एंड कंट्रोल समाधान  मुहैया होंगे। इससे  उभरते आपात  हालात पर जरूरी कार्रवाई के लिये  शीर्ष स्तर पर  तुरंत फैसला  लेने में मदद मिलेगी।

 इस प्रणाली के पायलट प्रोजेकट के तहत पहले चरण को भारत- बांग्लादेश सीमा पर  असम के ढुबरी इलाके में 61 किलोमीटर  के दायरे में  लागू किया जा चुका है।  पहले चरण के लागू होने के बाद सीआईबीएमएस के तहत  दूसरे औऱ तीसरे चरण को  त्रिपुरा, मेघालय, मिजोरम  औऱ पश्चिम बंगाल में लागू किया जाएगा।  उन्होंने कहा कि  इस तकनीक के तहत भारत-पाक औऱ भारत-बांग्ला सीमा पर  सभी गैर- दृश्य खाई को पाटा  जा सकेगा।  सम्मेलन में फिक्की के अध्यक्ष संदीप सोमानी ने कहा कि  भविष्य के खतरों औऱ मौजूदा सुरक्षा खतरों के मद्देनजर सरकार को  जमीनी औऱ समुद्र तटीय सुरक्षा के लिये  सरकार को समुचित सुरक्षा प्रबंध करने होंगे।

Comments

Most Popular

To Top