DEFENCE

Special Report: कामोव हेलिकॉप्टर का सौदा मई 2020 तक होने की उम्मीद

कामोव हेलिकॉप्टर

नई दिल्ली। भारतीय सेनाओं के लिये रूस से हासिल किये जाने वाले कामोव- 226 T हल्के  हेलिकॉप्टर सौदे का दस्तावेज तैयार हो रहा है औऱ इस पर  अगले साल मई तक दस्तखद होने की उम्मीद है।





यहां  एक रूसी रक्षा सूत्र ने कहा कि  इस हेलिकॉप्टर का उत्पादन भारत में होगा जिसके लिये एक  भारत-रूस संयुक्त उद्यम स्थापित किया जाएगा। यह संयुक्त उद्यम रसियन हेलिकाप्टर्स  और भारतीय रक्षा मंत्रालय के तहत हिंदुस्तान एरोनाटिक्स लि. के बीच स्थापित होगा। रूसी हथियारों के निर्यात की एजेंसी रोजोबोरोन एक्सपोर्ट के एक अधिकारी के मुताबिक  इस सौदे के तहत शुरू में रूस  में  60 हेलिकॉप्टर बना कर भारत भेजे जाएंगे और बाकी 140 हेलिकॉप्टरों का निर्माण भारत में होगा।

गौरतलब है कि साल 2015 में भारत और रूस के बीच  केए-226 T हेलिकॉप्टरों की सप्लाई के लिये  एक अंतरसरकारी समझौता हुआ था। इसके तहत हेलिकॉप्टर के कुछ हिस्से भारत में ही बना कर एसेम्बल किये जाएंगे। भारत में बनने वाले हेलिकॉप्टरों में करीब 50 प्रतिशत हिस्सा भारत में ही बनाया जाएगा। मई, 2018 में भारतीय रक्षा मंत्रालय ने  थल सेना और वायुसेना के लिये 200 हलके हेलिकॉप्टर  हासिल करने के लिये  आरएफपी जारी किये थे। इस पर करीब तीन अरब डॉलर (करीब 21 हजार करोड़ रुपये)  की लागत  का अनुमान है।

गत फरवरी में बैंगलुरु में एरो इंडिया प्रदर्शनी के दौरान  रूसी हेलिकॉप्टर कम्पनी ने  हेलिकॉप्टर के कलपुर्जे बनाने के लिये विभिन्न कम्पनियों के साथ सहमति के ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये थे।

Comments

Most Popular

To Top