DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: भारत के साथ साइबर सुरक्षा सहयोग गहरा करेगा इजराइल

साइबर क्राइम
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत के साथ साइबर सुरक्षा सहयोग गहरा करने के लिये इजराइल का पहला साइबर शिष्टमंडल दो दिनों का 16 दिसम्बर से भारत दौरा करेगा।





इस शिष्टमंडल की अगुवाई इजराइल राष्ट्रीय साइबर महानिदेशालय कर रहा है जिसे इजराइली आर्थिक मंत्रालय और इजराइली निर्यात संस्थान का सहयोग मिला है। इस शिष्टमंडल में इजराइल की 13 अग्रणी कम्पनियों के 25 प्रतिनिधि शामिल हैं। इस शिष्टमंडल के भारत दौरे का इरादा साइबर क्षेत्र में इजराइली तकनीकी विशेषज्ञता से भारत को अवगत कराना है।

इजराइली कम्पनियों ने इस तरह की विशेषज्ञता कई अहम बैंकिंग, दूरसंचार कम्पनियां, सरकारी विभाग, तेल औऱ गैस व परिवहन प्रणालियों में हासिल की है। इजराइल की राजदूत डॉ. रोन मालिका ने यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि इस शिष्टमंडल के भारत दौरे का इरादा साइबर क्षेत्र में भारत इजराइल साझेदारी को मजबूत करना है। उन्होंने कहा कि साइबर दुनिया में दोनों देशों द्वारा साझी वैश्विक साझेदारी स्थापित करने की भारी गुंजाइश है। इससे दोनों देशों के बीच एक दूसरे के यहां निवेश को भी बढ़ावा मिलेगा।

इस इरादे से दोनों देशों के व्यावसायिक समुदायों के बीच पहले से ही मजबूत रिश्ते विकसित होने लगे हैं। राजदूत ने कहा कि जैसे जैसे हम साइबर तकनीक और साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं हमें अपने ज्ञान और विशेषज्ञता को आपसी लाभ के लिये साझा करना होगा ।

इजराइली दूतावास के काउंसेलर बराक ग्रानोट ने कहा कि साइबर के क्षेत्र में दुनिया का 20 प्रतिशत से अधिक निवेश इजराइल में हो रहा है क्योंकि साइबर खतरों से मुकाबला के नजरिये से इजराइल विश्व नेता माना जाता है। जिस तरह इजराइल साइबर हमलों का शिकार हो रहा है भारत भी साइबर हमलों को झेल रहा है। इनमें से कुछ खतरों का मुकाबला इजराइली साइबर कम्पनियों द्वारा किया जा सकता है। इस इरादे से इजराइली कम्पनियों ने नई दिल्ली में विचार संस्था ‘आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन’ के साथ एक वर्कशाप आयोजित किया है।

Comments

Most Popular

To Top