DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: पैंगोंग झील के उत्तरी छोर की चोटियों पर बैठी भारतीय सेना

पैंगोल झील के पास गश्त लगाते जवान
फाइल फोटो

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख के दक्षिणी छोर के इलाके में 15 हजार फीट की उंचाई वाली चोटियों पर भारतीय सेना ने चीनी सेना की बढ़त को नाकाम करने के बाद वहां अपनी मौजूदगी पक्की कर ली है। इसके बाद भारतीय सेना ने पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर रुख किया है जहां की उंचाई वाली चोटियों पर अपने सैनिक बैठा दिये हैं। रक्षा सूत्रों के मुताबिक उत्तरी छोर के इलाके की फिंगर-4 की चोटियों पर भारतीय सेना ने भी अपने जवान भेजकर चीनी सेना को सीधी चुनौती दी है। भारतीय सेना अब वहां आमने सामने की स्थिति में तैनात है।





चीन इससे बौखलाया हुआ है और भारतीय सेना के साथ बातचीत के लिये राजी हुआ है। बुधवार को दोनों सेनाओं के ब्रिगेड कमांडरों की तीसरे दौर की गर्मागर्म बैठक हुई लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला है। सूत्रों के मुताबिक भारतीय पक्ष ने चीनी सेना से साफ कहा है कि वह 05 मई के पहले की यथास्थिति बहाल करे और अपने पुरानी स्थिति पर लौट जाए। इसके अलावा भारतीय सेना ने चीन से यह भी कहा है कि अपने हथियारों को भी वहां से हटा ले। भारत ने कहा है कि चीनी सेना उकसाने वाली कार्रवाई नहीं करे।

उल्लेखनीय है कि 29-30 अगस्त की रात को पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे की चोटियों पर चीनी सेना को आगे बढ़ने से रोक दिया था और वहां काला टाप और हेलमेट टाप की चोटियों पर अपना कब्जा जमा लिया। चीन ने इसके बाद भारतीय सेना को बातचीत के लिये बुलाया। चीनी सेना ने आरोप लगाया कि भारत ने वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन किया है। लेकिन भारतीय सेना ने कहा कि वह इलाका भारत की अवधारणा के अनुरुप भारतीय है और वास्तविक नियंत्रण रेखा के अंदर है।

गौरतलब है कि चीनी सेना ने पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे में फिंगर- 4 से फिंगर- 8 तक की चोटियों पर अपने सैनिक बैठा दिये थे। भारतीय सेना फिंगर-4 के जमीनी इलाके में थी लेकिन ताजा कार्रवाई के तहत भारतीय सेना ने वहां की चोटियों को अपने कब्जे में ले लिया है जहां अब वे चीनी सेना के आमने सामने की स्थिति में तैनात हो चुके हैं।

Comments

Most Popular

To Top