DEFENCE

Special Report: सीमा विवाद पर भारत-चीन के बीच हुई उच्च स्तरीय बैठक

रोहतांग दर्रा
फाइल फोटो

नई दिल्ली। उत्तरी लद्दाख के सीमांत इलाकों में चीन और भारत के सैनिकों के बीच हुए टकराव के बाद पैदा तनाव को दूर करने के लिये भारत औऱ चीन की सेनाओं के बीच उच्च आधिकारिक स्तर पर बातचीत हुई है। यहां राजनयिक सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इस इलाके मे दोनों देशों के सैनिक करीब रोजाना एक दूसरे के आमने सामने हो जाते हैं जिससे दोनों के बीच धक्का-मुक्की भी होती है।





राजनयिक सूत्रों के मुताबिक दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच वार्ता मंगलवार को हुई लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला । हालांकि दोनों पक्ष इस मसले पर आगे बातचीत जारी  रखने के लिये तैयार हो गए हैं। गौरतलब है कि गत 05 मई को उत्तरी लद्दाख के सीमांत इलाकों में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों के  सैनिकों के बीच तनातनी तब हुई जब चीनी सैनिकों ने पेंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर भारतीय ढांचागत निर्माण को  धवस्त करने की कोशिश की।

भारतीय सेना का कहना है कि पेंगोंग झील के अपने इलाके मे चीनी सेना ने सैनिकों की वाहनों से आवाजाही के लिये सड़क का निर्माण किया तो भारतीय सेना ने भी अपने सैनिकों की सुविधा के लिये सड़क का काम शुरू किया। चीन ने इसका विरोध किया तो दोनों देशों के सैनिकों के बीच तनाव पैदा हो गया।  इस आशय की रिपोर्टें हैं कि चीन ने पेंगोंग झील के अपने नियंत्रण वाले इलाके में सैनिकों के लिये 80 टेंट बना लिये हैं।

इस घटना के बाद चीनी दैनिक ग्लोबल टाइम्स ने भारत को चेतावनी दी कि गलवान नदी के इलाके में टकराव की स्थिति नहीं पैदा करे नहीं तो इसके बुरे नतीजे भुगतने होंगे।

Comments

Most Popular

To Top