DEFENCE

खास रिपोर्ट: आतंकवाद के मुकाबले के लिए भारत सक्षम- राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
फाइल फोटो

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि सीमा पर आतंकवाद के मुकाबले के लिये भारत पूरी तरह सक्षम है। यहां एक गोष्ठी का उदघाटन करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि साल 2016 और 2019 के आतंकवादी हमलों के खिलाफ भारत ने जो जवाबी हमले किये वह आतंकवाद से मुकाबले के लिये देश के दृढ संकल्प को दिखाता है।





रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान (आईडीएसए) द्वारा आयोजित एक सम्मेलन में रक्षा मंत्री ने सरकार के इस कथन को दुहराया कि आतंक और वार्ता साथ साथ नहीं चल सकती। 12 वें दक्षिण एशियाई सम्मेलन के उद्घाटन को सम्बोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि उन आतंकवादी गुटों के खिलाफ कार्रवाई के लिये पाकिस्तान को दिखाने लायक कार्रवाई करनी होगी जो पाकिस्तान की जमीन से भारत के अंदर हमले करते हैं।

पाकिस्तान का नाम लिये बिना रक्षा मंत्री ने कहा कि केवल एक देश की नीतियों और बर्ताव की वजह से ही दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) की पूरी सम्भावनाओं का लाभ नहीं उठाया जा सका है। मिसाल के तौर पर उन्होंने बताया कि किस तरह साल 2015 में काठमांडू में सार्क सम्मेलन के दौरान सार्क मोटर ह्वीकल समझौता नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि इसी देश ने भारत के खिलाफ आतंकवाद को राज्य की नीति के तौर पर अपनाया है। उन्होंने कहा कि विवादों का हल शांतिपूर्ण तरीके से ही निकाला जा सकता है।

उन्होंने कहा कि मुम्बई, पठानकोट, उड़ी और पुलवामा में जो आतंकी हमले हुए हैं वे पाकिस्तान की राज्य प्रायोजित आतंक नीति के सबूत हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के सबसे बड़े देश के नाते भारत ने अपनी समृद्धि पडोसी देशों के साथ साझा करने की हमेशा कोशिश की है। उन्होंने बताया कि पिछले एक दशक के दौरान भारत ने पडोसी देशों के लिये 13.14 अरब डॉलर के कर्ज और चार अरब डालर की सहायता मुहैया कराई है।

Comments

Most Popular

To Top