DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: भारत और अमेरिका ने रक्षा सम्बन्धों की बताई अहमियत

भारत और अमेरिकी रक्षा मंत्री
फाइल फोटो

नई दिल्ली। अगले महीने भारत और अमेरिका के रक्षा व विदेश मंत्रियों की होने वाली टू प्लस टू वार्ता के पहले दोनों देशों के आला अधिकारियों ने इस वार्ता की जमीन और विचारणीय मसलों को तैयार करने के लिये वीडियो के जरिये अहम बैठक की है।





इस बैठक में अमेरिका के दक्षिण एवं मध्य एशियाई मामलों के प्रधान उप सहायक विदेश मंत्री डीन थॉम्पसन और हिंद-प्रशांत सुरक्षा मामलों के प्रधान उप सहायक रक्षा मंत्री डेविड हेल्वी ने अमेरिका-भारत 2+2 मंत्रिस्तरीय संवाद की वर्चुअल माध्यम से आयोजित अंतरसत्रीय बैठक में अपने भारतीय समकक्षों के साथ बातचीत की। दोनों पक्षों ने अमेरिका-भारत व्यापक वैश्विक सामरिक साझेदारी पर चर्चा का अवसर मिलने पर खुशी ज़ाहिर करते हुए द्विपक्षीय संबंधों के अनेक क्षेत्रों में बढ़ी निकटता और सहयोग का उल्लेख किया।

अमेरिका ने भारत के प्रमुख रक्षा सहयोगी के दर्जे, सैन्य स्तर पर परस्पर सहयोग में वृद्धि और अन्य रक्षा प्राथमिकताओं के महत्व को रेखांकित किया। दोनों पक्षों ने कोविड-19 का मुक़ाबला करने, आतंकवाद निरोधक प्रयासों, संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की सदस्यता, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सुशासन और सतत विकास के लिए समर्थन तथा दक्षिण एशिया और विस्तृत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में हाल की अस्थिरकारी गतिविधियों के खिलाफ़ जवाबी कार्रवाई के प्रयासों समेत अनेक द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और बहुपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की। दोनों पक्ष अमेरिका-भारत-ऑस्ट्रेलिया-जापान चतुर्पक्षीय संपर्क के माध्यम से विचार-विमर्श की प्रक्रिया को और मज़बूत करने पर सहमत हुए।

प्रधान उप सहायक विदेश मंत्री थॉम्पसन और प्रधान उप सहायक रक्षा मंत्री हेल्वी ने दोनों देशों, क्षेत्र और दुनिया के हित में अमेरिका-भारत साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए अपने भारतीय समकक्षों के साथ मिलकर काम करना जारी रखने की प्रतिबद्धता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि वे इस साल बाद में होने वाले अमेरिका-भारत 2+2 मंत्रिस्तरीय संवाद की तैयारी के लिए तत्पर हैं।

Comments

Most Popular

To Top