DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट : HAL स्वदेशी लड़ाकू हेलिकॉप्टर बनाने को तैयार

HAL

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की अग्रणी रक्षा वैमानिकी कम्पनी हिंदुस्तान ऐरोनाटिक्स लि. ने स्वदेशी लडाकू हेलीकाप्टर के स्वदेशी उत्पादन की पूरी तैयारी कर ली है औऱ अब  उसे  भारतीय सेनाओं के लिये 160 लडाकू हेलीकाप्टर सप्लाई करने के आर्डर मिलने की प्रतीक्षा है।





ये लडाकू हेलीकाप्टर भारतीय  सेनाओं द्वारा अब तक इस्तेमाल में लाए जा रहे  एमआई-17-वी , कामोव और सीकिंग हेलीकाप्टरों का स्थान लेंगे। इन हेलीकाप्टरों को सेना रिटायर करना चाहती है।

हैल के हेलीकाप्टर डिवीजन के नये प्रोडक्शन हैंगर के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह  द्वारा  27 फरबरी को उद्घाटन के मौके पर  हैल के प्रबंध निदेशक आर माधवन ने कहा कि हैल अब नये उन्नत किस्म के इंडियन  मल्टी रोल हेलीकाप्टर बनाने को भी तैयार है और इसके अगले कुछ सालों में स्वदेशी निर्माण का प्रस्ताव रक्षा मंत्रालय को दिया गया है।

HAL के अधिकारियों के मुताबिक लाइट कम्बैट हेलीकाप्टर को सेनाओं में समाघात तौर पर तैयार करवाने के लिये हैल तैयार है और इसके उत्पादन की पूरी तैयारी कर चुका है।  हैल  ने साल में 30 लाइट कम्बैट हेलीकाप्टरों का उत्पादन करने की क्षमता स्थापित  कर ली है।

HAL के हेलीकाप्टर कम्पलेक्स के सीईओ जी वी भास्कर के मुताबिक  ऐसे 15 लडाकू हेलीकाप्टरों के  उत्पादन के लिये तकनीकी- व्यावसायिक प्रस्ताव  मार्च, 2018 में ही हैल ने सेनाओं को सौंप दिया था।

HAL द्वारा डिजाइन और विकसित  एलसीएच 5.5 टन भार वाला  है। यह हेलीकाप्टर शक्ति इंजन द्वारा संचालित है औऱ इसमें अडवांस्ड लाइट हेलीकाप्टर की कई डिजाइन विशेषताएं हैं। एलसीएच को  सियाचिन ग्लेशियर के अग्रिम इलाकों पर 500 किलो वजन के साथ उडा कर इसकी क्षमता सिद्ध की गई है।  इसे अब तक 1239 घंटों तक उडाया जा चुका है। एलसीएच को अगस्त , 2017 में प्रारम्भिक आपरेशनल क्लीयरेंस मिल चुकी है।

Comments

Most Popular

To Top