DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लद्दाख जाएंगे

राजनाथ सिंह तवांग में
फाइल फोटो

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख के सीमांत इलाकों से चीनी सैनिकों को पीछे हटने के लिये भारत द्वारा डाले जा रहे राजनयिक और सैन्य दबाव के बीच भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह इस सप्ताह लद्दाख के दौरे पर जाने वाले हैं।





गौरतलब है कि मंगलवार को ही दोनों देशों के सैन्य कमांडरों के बीच 14 घंटे की गहन वार्ता हुई है। इस बातचीत के नतीजों को लेकर भारतीय पक्ष मौन है लेकिन चीनी विदेश मंत्री वांग ई को उद्धृत करते हुए चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के दैनिक ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि दोनों देशों के सैन्य कमांडरों के बीच चौथे दौर की बातचीत में प्रगति हुई है। इस दौरान अग्रिम मोर्चे के सैनिकों को और पीछे भेजने पर सहमति बनी है। चीनी विदेश मंत्री के मुताबिक इससे सीमा पर तनाव कुछ हम हुआ है।

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का  दो सप्ताह पहले ही लेह के दौरे का कार्यक्रम बना था लेकिन गत तीन जुलाई  को अचानक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लेह और लद्दाख की अन्य अग्रिम चौकियों का दौरा कर भारतीय जवानों का मनोबल बढाया था। लद्दाख के नीमू इलाके में सैनिकों को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था कि गत 15 जून को गलवान घाटी में 15 भारतीय सैनिकों की शहादत व्यर्थ नहीं जाने देंगे।

उल्लेखनीय है कि चीनी सेना गलवान घाटी और हाट स्प्रिंग इलाके से कुछ पीछे हटी है लेकिन पैंगोंग त्सो झील इलाके से अपने सैनिको में मामूली कटीती ही की है। चीनी सैनिक पैंगोंग झील की फिंगर-4 चोटी पर हैं जहां से उन्हें आठ किलोमीटर दूर फिंगर-8 चोटी पर जाने को कहा जा रहा है। लेकिन चीनी सेना ने अपना अडियल रुख जारी रखा हुआ है।

 

Comments

Most Popular

To Top