DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: रक्षा मंत्री ने सेना प्रमुखों के साथ की गहन चर्चा

सेना प्रमुख के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
फाइल फोटो

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख के गलवान नदी घाटी इलाके में भारतीय सैनिकों के साथ चीनी सैनिकों द्वारा 15 जून की रात को की गई खूनी झड़प के बाद के ताजा हालात पर चर्चा करने के लिये रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रधान सेनापति और तीनों सेनाप्रमुखों के साथ बैठकों का सिलसिला बुधवार को जारी रखा।





रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय साउथ ब्लाक में बुधवार की सुबह रक्षा मंत्री द्वारा बुलाई गई समीक्षा बैठक में प्रधान सेनापति जनरल बिपिन रावत, थलसेना प्रमुख जनरल मुकुंद नरवाणे, वायुसेना प्रमुख एय़र चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया और नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने भाग लिया।

इस बैठक के बाद रक्षा मंत्री ने अपने ट्वीट संदेश में सीमा झड़प में शहीद हुए सैनिकों के परिवारों से अपना शोक जाहिर करते हुए कहा कि गलवान नदी घाटी में सैनिकों का नुकसान काफी चिंताजनक और दर्दनाक है। उन्होंने कहा कि हमारे सैनिकों ने अपनी ड्यूटी निभाते हुए आसाधारण साहस और वीरता का परिचय दिया और सेना की सर्वोच्च परम्परा का निर्वाह करते हुए अपनी जान दी।

उन्होंने कहा कि शहीद सैनिकों की बहादुरी और वीरता को कभी नहीं भूलेगा। शहीद सैनिकों ओर उनके परिवारों के साथ मेरी सहानुभूति है। भारत के इन वीरबांकुरों पर हमें गर्व है।

रक्षा सूत्रों के मुताबिक थलसेना प्रमुख जनरल नरवाणे ने इस बैठक के दौरान चीनी कार्रवाई को समुचित जवाब देने के लिये कई विकल्प पेश किये। सूत्रों के मुताबिक पूर्वी लद्दाख में हालात काफी तनावपूर्ण बना हुआ है।

Comments

Most Popular

To Top