DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: रक्षा संस्थान का नाम पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर पर रखा गया

पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर
फोटो सौजन्य- गूगल

नई दिल्ली। देश-विदेश में प्रतिष्ठित रक्षा और सामरिक मामलों की विचार संस्था इंस्टीट्यूट फार डिफेंस स्टडीज एंड एनेलिसिस ( IDSA) का नाम अब पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के नाम से जाना जाएगा। रक्षा मंत्रालय के तहत संचालित यह विचार संस्था का नामकरण अब मनोहर पर्रिकर इंस्टीटूयूट फॉर डिफेंस स्टडीज एंड एनेलिसिस कर दिया गया है।





गौरतलब है कि रक्षा मंत्री इस संस्थान की कार्यकारिणी समिति की अध्यक्षता करते हैं। यहां रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि स्व. मनोहर पर्रिकर की प्रतिबद्धता और विरासत को सम्मानित करने के लिये संस्थान का नाम बदला गया है। पद्मभूषण से सम्मानित पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की दृष्टि और नजरिये के अनुरूप आईडीएसए का नया नाम रखा गया है।

प्रवक्ता ने कहा कि मनोहर पर्रिकर सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी और समर्पण के प्रतीक समझे जाते थे। उनमें असीम योद्धा भावना थी और कठिन वक्त का मुकाबला निर्भय तरीके से करते थे। वह 09 नवम्बर, 2014 से 14 मार्च, 2017 तक भारत के रक्षा मंत्री रहे। उन्होंने पठानकोट और उड़ी आतंकी हमलों के दौरान रक्षा मंत्रालय को कामयाबी के साथ इन चुनौतियों का जवाब देने का नेतृत्व प्रदान किया।

स्व. मनोहर परिकर जब रक्षा मंत्री थे देश की सुरक्षा को मजबूत करने वाले कई निर्णय लिये गए। उनके कार्यकाल में स्वदेशी रक्षा उत्पादन को बढ़ावा मिला और पूर्व सैनिकों का जीवन बेहतर किया। इनकी सबसे बड़ी उपलब्धि सैनिकों के लिये वन रैंक वन पेंशन को लागू करना था। उनके कार्यकाल में सेनाओं में दूरगामी महत्व के सुधार करने के लिये लेफ्टिनेंट जनरल डी बी शेकातकर की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया गया। इस समिति ने रक्षा खर्च को संतुलित करने और सेनाओं की समाघात क्षमता को बढ़ाने के नजरिये से कई सिफारिशें कीं।

गौरतलब है कि आईडीएसए रक्षा मंत्रालय के तहत एक स्वशासी संस्था है। इसकी स्थापना 1965 में हुई थी जिसे देश की सुरक्षा से सम्बन्धित विषयों का गहन अध्ययन और विश्लेषण करने का दायित्तव सौंपा गया था। आईडीएसए के पास कई विषयों वाली शोध फेकल्टी है जिसमें अकादमिक, सैन्य बलों और सामरिक हलकों के विशेषज्ञ होते हैं। यह संस्थान हर साल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन और गोष्ठियों का आयोजन करता है।

Comments

Most Popular

To Top