DEFENCE

Special Report: चीनी सेना ने गोली दागी और झूठ बोला

सीमा पर चीनी सेना
फाइल फोटो

नई दिल्ली। सोमवार शाम को पूर्वी लद्दाख में दक्षिणी पैंगोंग झील के इलाके में चोटियों पर भारतीय सेना द्वारा आधिपत्य जमाने से चीन बौखलाया हुआ है। अपनी इस बौखलाहट को वह छुपा नहीं सका और उसने सोमवार शाम को इस इलाके में एक चौटी पर तैनात भारतीय सेना को गोली दागगकर धमकाने की कोशिश की। लेकिन उलटे सोमवार देर शाम चीनी सेना ने एक बयान जारी कर भारतीय सेना पर ही आरोप लगा दिये कि उसने चीनी सेना को उकसाने की कार्रवाई की है।





चीनी सेना के इस बयान के जवाब में मंगलवार दोपहर को भारतीय सेना ने कड़ा बयान देते हुए कहा कि किसी भी वक्त भारतीय सेना ने वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन नहीं किया और न ही गोलीबारी की। भारतीय थलसेना के एक प्रवक्ता ने कहा कि जहां भारत और चीन के बीच राजनयिक, सैनिक और राजनीतिक स्तर पर बातचीत प्रगति में है, चीनी पीपल्स लिबरेशन आर्मी ही समझौतों का खुला उल्लंघन करती रही है और आक्रामक सैन्य कार्रवाई कर रही है।

07 सितम्बर के ताजा घटनाक्रम के बारे में टिप्पणी करते हुए भारतीय थलसेना के प्रवक्ता ने कहा कि चीनी सैनिकों ने ही वास्तविक नियंत्रण रेखा के अग्रिम इलाकों में भारतीय चौकियों के निकट पहुंचने की कोशिश की और हमारे सैनिकों को धमकाया।

प्रवक्ता ने कहा कि चीनी सेना ने भारतीय सैनिकों को धमकाने के लिये हवा में कुछ रांउंड गोलियां चलाईं लेकिन इस भारी उकसावे के बावजूद भारतीय सेना ने परिपक्व और जिम्मेदार रवैया दिखाते हुए भारी संयम बरता। प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय सेना शांति व स्थिरता बनाए रखने को प्रतिबद्ध है लेकिन इसके साथ ही किसी भी कीमत पर अपने इलाके की सम्प्रभुता औऱ प्रादेशिक अखंडता बचाए रखने के लिये प्रतिबद्ध है।

प्रवक्ता ने यह भी कहाकि सोमवार शाम की घटना के बारे में चीनी सेना के पश्चिमी थियेटर कमांड का बयान अपने घरेलू जनमत और अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों को भ्रमित करने के लिये है।

पश्चिमी थियेटर कमांड के प्रवक्ता सीनियर कर्नल चांग शुई ली ने कहा था कि पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे में भारतीय सेना ने गैरकानूनी तौर पर वास्तविक नियंत्रण रेखा का अतिक्रमण किया और चीनी सैन्य गश्ती दल को गोलियां दागकर धमकाने की कोशिश की। चीनी प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय सेना ने गोलियां तब चलाई जब चीनी सैनिक बात के लिये आगे बढ रहे थे। लेकिन चीनी सैनिकों को जमीन पर हालात स्थिर करने के लिये जवाबी कार्रवाई करनी पडी। प्रवक्ता ने कहा कि वह भारतीय सेना से मांग करते हैं कि वह खतरनाक कार्रवाई करने से बचे औऱ और सीमा पार करने वाले अपने सैनिकों को तत्काल पीछे हटाए। प्रवक्ता ने कहा कि चीनी सेना अपनी सम्प्रभुता की रक्षा के लिये प्रतिबद्ध है।

Comments

Most Popular

To Top