DEFENCE

Special Report: चीन ने समझौते तोड़े- भारत

चीनी सेना
फाइल फोटो

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख के सीमांत इलाकों में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार भारतीय इलाके में घुस कर अपना डेरा जमा लेने और वहां से पीछे नहीं हटने की चीन की जिद पर भारत के आला राजनयिकों की अगले दौर की बैठक इसी सप्ताह होगी। चीन और भारतीय सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख के सीमांत इलाकों में गत पांच मई से ही तनातनी का माहौल चल रहा है।





इस बैठक के पहले यहा भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने अपनी टिप्पणी में चीन को साफ संदेश दिया कि सीमांत इलाकों में शांति व  स्थिरता बहाल करने के लिये दोनों देशों को वास्तविक नियंत्रण रेखा  का सम्मान करना होगा। प्रवक्ता ने कहा कि सीमांत इलाकों में जिस तरह चीन ने भारी संख्या में अपने सैनिक तैनात कर दिये हैं वह भारत औऱ चीन के बीच अब तक हुई सहमतियों और समझौतों का पूर्ण हनन करते हैं।

प्रवकता ने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति व स्थिरता बहाल करने के लिये 1993 के बाद से कई समझौते  हुए हैं जिनका पालन दोनों सेनाओं को करना होगा।

गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा पर यथास्थिति बहाल करने के लिये दोनों देशों के सैन्य कमांडरों और विदेश मंत्रालयों के संयुक्त सचिवों के स्तर के  राजनयिकों के बीच चार दौर की बैठकें हो चुकी है। पांचवें दौर की बैठक शुक्रवार को होने की सम्भावना है। लेकिन इसकी स्प्ष्ट घोषणा यहां विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने नहीं की।

भारतीय विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव स्तर पर सीमा मसलों पर बातचीत के लिये एक  वर्किंग मैकेनिज्म फार कंसल्टेशन एंड कोआर्डिनेशन  आन  बार्डर अफेयर्स ( WMCC) का गठन किया गया है। इस ढांचे के तहत दोनों देश सीमा मसलों पर नीतिगत फैसले लेते हैं जिन्हें जमीन पर लागू करने के लिये सैन्य कमांडरों की बैठक होती है। सैन्य कमांडरों की अब तक चार दौर की बैठकें हो चुकी हैं लेकिन इसके बावजूद चीनी सेना पैंगोंग त्सो झील और  देपसांग इलाके में भारतीय इलाके में बनी हुई है और वास्तविक नियंत्रंण रेखा तक लौटने से इनकार कर रही है।

चीन के इस रवैये की वजह से भारतीय सामरिक और सैन्य हलकों में चिंता गहरी हो गई है क्योंकि इस वजह से भारतीय सेना को चीनी सेना से आमने सामने की स्थिति में जाडे के बर्फीले इलाके में तैनात होना होगा जिस पर भारी खर्च  और परेशानी होगी।

Comments

Most Popular

To Top