DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: 100 ल्वाइटरिंग मुनीटन खरीदेगी भारतीय सेना

ल्वाइटरिंग मुनीटन

नई दिल्ली। भारतीय थलसेना के लिये ऐसे एक सौ आसमानी बम हासिल करने का टेंडर जारी किया है गया जो आसमान में 4,500 मीटर की ऊंचाई पर उड़ता हुआ दुश्मन के इलाके में अपने लक्ष्य को खोजकर उस पर आत्मघाती हमला करेगा। ल्वाइटरिंग मुनीटन नाम का यह आसमानी बम थलसेना अपने इलाके से लांच करेगी औऱ 15 किलोमीटर दूर तक जाकर आसमान में तब तक उड़ता रहेगा जब तक कि इसे जमीन से यह नहीं निर्देश दिया जाता है कि उसे किस लक्ष्य पर जा कर गिरते हुए विस्फोट करना है।





ल्वाइटरिंग मुनीटन नाम का यह आसमानी बम किसी सैनिक द्वारा अपने कंधे पर रख कर छोड़ा जा सकता है। थलसेना के लिये इन ल्वाइटरिंग मुनीटन को हासिल करने के लिये सूचना मांगने का आग्रह (आरएफआई) गत 06 मार्च को जारी किया गया था। यह बम 20 किलोग्राम वजन का होता है और आसमान में आधे घंटे तक के लिये विचरण करते रह सकता है। यह जमीन से 300 किलोमीटर से लेकर 4,500 मीटर ऊपर तक उड़ते रह सकता है। यह मुनीटन दुश्मन के इलेक्ट्रॉनिक जैमरों से जैम नहीं किया जा सकेगा। इस बम को गिराने का इरादा मुख्य तौर पर दुश्मन के इलाके में किसी सैनिक जमावड़े को खत्म करना है।

गौरतलब है कि गत जनवरी माह में इजराइली फर्म ‘यू विजन एयर’ ने इन ल्वाइटरिंग मुनीटन को भारत में बनाने के लिये संयुक्त उद्यम स्थापित करने का एक समझौता किया था। यह कम्पनी प्रीसीजन एटैक ल्वाइटरिंग मुनीटन (पीएएलएम) हीरो सिस्टम्स का निर्माण भारत में करेगी। ल्वाइटरिंग मुनीटन को ग्राउंड कंट्रोलर से भी कंट्रोल किया जा सकता है। इसे किसी विमान या हेलिकॉप्टर से भी जमीन पर किसी ठिकाने को नष्ट करने के लिये गिराया जा सकता है।

Comments

Most Popular

To Top