DEFENCE

मोदी और आबे करेंगे भारत की बुलेट ट्रेन का शिलान्यास

बुलेट ट्रेन में प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली। भारत की पहली बुलेट ट्रेन सन 2023 में मुम्बई और अहमदाबाद के बीच दौड़ने लगेगी। इस सिलसिले में जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भारत आ रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शिंजो आबे अगले महीने बुलेट ट्रेन के निर्माण की आधारशिला रखेंगे।





भारत-जापान ने 2015 में किए थे सहयोग पत्र पर हस्ताक्षर

रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि मुम्बई-अहमदाबाद हाईस्पीड रेल, जिसका लोकप्रिय नाम बुलेट ट्रेन है, 2023 में चलने लगेगी। भारत और जापान ने 2015 में इस परियोजना के सहयोग पत्र पर हस्ताक्षर किए थे। सन 2014 के चुनाव के दौरान नरेंद्र मोदी ने जो वायदे किए थे उनमें यह प्रोजेक्ट भी शामिल है। नवंबर 2016 में नरेंद्र मोदी ने अपनी जापान यात्रा के दौरान तोक्यो से कोबे के बीच शिंकासेन (यानी बुलेट ट्रेन) पर यात्रा की थी।

ट्रेन की स्पीड होगी 350 किलोमीटर, खर्चा आएगा 1 लाख करोड़ रुपये

इसी ट्रेन की तकनीक भारत को जापान दे रहा है। यह परियोजना करीब एक लाख करोड़ रुपये की है। इस ट्रेन की स्पीड 350 किलोमीटर प्रति घंटा होगी। इसके संचालन के लिए जापान 4000 भारतीयों को ट्रेनिंग देना। इनमें से 137 को ट्रेनिंग देने का काम पूरा हो चुका है। इस सिलसिले में अहमदाबाद में एक ट्रेनिंग स्कूल खोला जा रहा है।

सात सेक्टर में चलेंगी बुलेट ट्रेन

भारत में इस बुलेट ट्रेन को चालू करने के अलावा सात सेक्टरों में इन गाड़ियों को चलाया जाएगा, जिनपर अध्ययन चल रहा है। ये सेक्टर हैं दिल्ली-मुम्बई, दिल्ली-कोलकाता, दिल्ली-चेन्नई, मुम्बई-चेन्नई, कोलकाता-चेन्नई, चेन्नई-बेंगलुरु-मैसूर और बेंगलुरु-मुम्बई। इनके अलावा सरकार ने कुछ और सेक्टरों पर सेमी हाई स्पीड ट्रेन चलाने का फैसला किया है।

कुछ सदस्यों ने इन हाईस्पीड ट्रेनों की सुरक्षा का सवाल उठाया तो रेलमंत्री ने कहा कि हम इसकी तकनीक जापान से ले रहे हैं, जिसने दुनिया में इसका आविष्कार किया। यह पूरा कॉरिडोर इलेवेटेड होगा। इसका कुछ हिस्सा जमीन के नीचे सुरंग से होकर भी गुजरेगा।

Comments

Most Popular

To Top