DEFENCE

लद्दाख सीमा विवाद: भारतीय सेना को मिला सबसे आधुनिक और हल्का ड्रोन ‘भारत’

ड्रोन भारत
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद के बीच रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ ऊंचाई वाले क्षेत्रों और पहाड़ी इलाकों में निगरानी करने के लिए भारतीय सेना को स्वदेशी रूप से विकसित ड्रोन ‘भारत’ प्रदान किया है।





रक्षा सूत्रों ने समाचार एजेंसी को बताया कि भारतीय सेना को पूर्वी लद्धाख क्षेत्र में जारी विवाद में खास सुरक्षा की आवश्यकता है। इसके लिए डीआरडीओ ने उन्हें भारत ड्रोन प्रदान किया है।

डीआरडीओ की चंडीगढ़ स्थित प्रयोगशाला के जरिए विकसित भारत ड्रोन की श्रृंखला को स्वदेशी रूप से विकसित दुनिया के सबसे चुस्त और हल्के निगरानी ड्रोन की सूची में शामिल किया जा सकता है। डीआरडीओ के सूत्रों ने कहा- ‘अभी तक छोटे शक्तिशाली ड्रोन बड़ी सटीकता के साथ किसी भी स्थान पर स्वायत्तता से काम करता है। एडवास्ड रिलीज टेक्नॉल्जी के साथ यूनीबॉडी बायोमिमेटिक डिजाइन मिशनों के लिए एक घातक कॉम्बिनेशन है।‘

भारत ड्रोन आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से लैस है जो इसे इसे दोस्तों और अपने दुश्मनों के साजिश का भंडाफोड़ करने और उसके मुताबिक कार्रवाई करने में मदद करता है। बता दें कि ड्रोन अधिक ठंडे मौसम वाले तापमान में जीवित रह सकता है, इसे और खराब मौसम के लिए भी विकसित किया जा सकता है।

ड्रोन मिशन के दौरान वास्तविक समय में वीडियो प्रसारण है और नाइत विजन क्षमताओं के साथ यह घने जंगलों में छिपे लोगों का पता सकता है।

 

Comments

Most Popular

To Top