DEFENCE

कश्मीर: जांबाज सैनिकों के लिए भेजी गईं 40 हजार स्वदेशी बुलेटप्रूफ जैकेट

स्वदेशी अत्याधुनिक बुलेट प्रूफ जैकेट

नई दिल्ली। स्वदेश में बनी 40 हजार बुलेटप्रूफ जैकेटों की आपूर्ति भारतीय सेना को की गई है। सैन्य इतिहास में यह आपूर्ति पहली बार की गई है। यह जैकेट एके- 47 की गोलियां झेलने में बेहद सक्षम है।





खास बात यह है कि इन जैकेटों को बोरॉन कार्बाइड सेरेमिक से तैयार किया गया है जो सुरक्षा के लिहाज से सबसे हल्की और उम्दा सामग्री है। अलावा इसके यह जैकेट जवानों के शरीर को 360 डिग्री सुरक्षा देगी। साथ ही पहनने में आसान और सुविधाजनक भी है।

मीडिया खबरों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ सैन्य अभियानों में जुटे जांबाज सैनिकों को इन जैकेटों की पहली खेप उपलब्ध करवाई जाएगी। बुलेटप्रूफ जैकेट निर्माता कंपनी SMPP प्राइवेट लिमिटेड की ओर से मेजर जनरल अनिल ऑबेरॉय ने बताया कि वह सेना को तय समय से पहले पूरा ऑर्डर मुहैया करा देंगे। सरकार द्वारा यह ऑर्डर पूरा करने के लिए कंपनी को साल 2021 तक की तारीक दी गई है लेकिन कंपनी साल 2020 के अंत तक सारी जैकेट बनाकर तैयार कर देगी।

मेजर जनरल ओबेरॉय के मुताबिक पहले साल सेना के लिए 36 हजार जैकेट मुहैया करानी थी लेकिन कंपनी इस लक्ष्य से आगे चल रही है। देश में बनी यह जैकेट हार्ड स्टील से बनी गोलियां झेल सकती है। यानी कि एके- 47 से निकली जैसी गोलियां इसपर बेअसर साबित होंगी।

इन जैकेटों को कानपुर स्थित सेंट्रल ऑर्डिनेंस डिपो पहुंचाया गया है। यहां से जल्द ही सैनिकों के पास जम्मू-कश्मीर पहुंचाया जाएगा।

Comments

Most Popular

To Top