DEFENCE

भविष्य के युद्ध के मद्देनजर भारतीय सेना की अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी

सेना प्रमुख नरवाणे

नई दिल्ली। सेंटर फॉर लैंड वारफेयर स्टडिज (CLAWS) द्वारा आयोजित भारतीय सेना की अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी ‘प्रज्ञान सम्मेलन 2020′ कल नई दिल्ली के मानेकशॉ सेंटर में प्रारंभ हुई। दो दिन के इस सम्मेलन में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञ जमीनी युद्ध की बदलती विशेषताओं और सेना पर इसके प्रभाव पर विचार-विमर्श किया गया।





संगोष्ठी में रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद येशो नाइक, सेना प्रमुख जनरम एमएम नरवणे, उप सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल एसके सैनी और रक्षा मंत्रालय सेना के तीनों अंगों, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और अग्रणी थिंक टैंक और देश के अकादमिक संस्थानों के गणमान्य उपस्थित थे।

संगोष्ठी ने नए युग की युद्ध प्रणाली को परिभाषित करने वाले उभरते विचारों, दृष्टिकोणों पर विचार-विमर्श का मंच प्रदान किया। नए युग की युद्ध प्रणाली में स्वरूप के साथ-साथ युद्ध स्थल का स्वरूप बदल रहा है और लक्ष्य प्राप्ति के नए उपायों का उपयोग किया जा रहा है।

संगोष्ठी में मुख्य भाषण रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद येशो नाइक ने दिया। उन्होंने बदलती सुरक्षा परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए सशस्त्र बलों के व्यापक परिवर्तन की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि चीफ-ऑफ-डिफेंस स्टॉफ (सीडीएस) और सैन्य कार्य विभाग (डीएमए) इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम है।

उद्घाटन भाषण में सेना प्रमुख ने कहा कि युद्ध की प्रकृति निरंतर है लेकिन स्वरूप विकसित होता रहता है। उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी के आने से सशस्त्र बलों को कुशल होने और निरंतर परिवर्तन के साथ रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि सीडीएस के गठन से तीनों सेनाओं के बीच एकता की भावना मजबूत हुई है।

संगोष्ठी के पहले दिन दो सत्रों में विशेषज्ञों ने युद्ध प्रणाली विकास और बदलती परिस्थिति पर चर्चा की। विशेषज्ञों ने भविष्य के युद्ध लड़ने में उभरती प्रवृत्तियों तथा संभावनाओं की दृष्टि से सेना पर इसके प्रभाव को लेकर विचार-विमर्श किया। दूसरे सत्र में प्रौद्योगिक क्रांति-मौलिक चुनौती विषय पर चर्चा की गई। चर्चा में बहुपक्षीय कार्रवाइयों में इन्फॉरमेशन वारफेयर, साइबर और अंतरिक्ष युद्ध और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और रोबोटिक्स के प्रभाव पर चर्चा की गई। संगोष्ठी के दूसरे दिन ट्रांसफॉरमेंशन इन बैटल स्पेसेज तथा हाईब्रिड/सब-कवेन्शनल वारफेयर विषय पर विचार किया जाएगा।

Comments

Most Popular

To Top