DEFENCE

सशस्त्र बल कर्मियों की समस्याओं का निराकरण प्राथमिकता से करें, केंद्र ने लिखा पत्र

CAPF
फाइल फोटो

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को एक पत्र लिखा है जिसमें कहा गया है कि वे सशस्त्र बल- सेना और अर्ध सैनिक बल के कर्मियों का समस्याओं का निराकरण प्राथमिकता के आधार पर करें। पत्र में कहा गया है कि जवानों को सीमित छुट्टी मिलती है। कई बार उनकी पूरी छुट्टी सरकारी दफ्तरों में अपने काम के लिए चक्कर लगाने में खत्म हो जाती है।





केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा है कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि न केवल जवानों बल्कि उनके स्वजनों के प्रति भी सरकारी कार्यालयों में सम्मानपूर्वक व्यावहार हो। इससे जवानों का हौसला बना रहेगा। कई बार घरेलू समस्याओं से भी जवान तनाव में रहते हैं।

केंद्रीय गृह मंत्रालय के पत्र के आधार पर सामान्य प्रशासन विभाग (GAD) के उप-सचिव आरपी राठिया ने इस संबंध में विभागों को निर्देश जारी किया है। इसमें कहा गया है कि हमारे सशस्त्र बल विषम तथा चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भी अपनी जान की परवाह किए बगैर देश की सेवा व सुरक्षा में तत्पर रहते हैं।

पत्र में कहा गया है कि वह अपने घर परिवारों से हजारों किमी दूर जोखिम भरे इलाकों और खराब मौसम में भी देश की सुरक्षा में दिनरात लगे रहते हैं। उसमें थल सेना, नौसेना, वायुसेना और केंद्रीय सशस्त्र बल जैसे- बीएसएफ, आईटीबीपी, सीआरपीएफ आदि व सेवानिवृतकर्मी और अधिकारी शामिल हैं।

जीएडी उप-सचिव ने कहा है कि इन जवानों से संबंधित कोई भी समस्या निराकरण के लिए अपने विभाग को प्राप्त होती है तो उस पर तत्काल नियामानुसार कार्यवाही करें। जब भी ये या इनके परिवार के लोग सरकारी कार्यालयों में जाए तो उनके साथ स्नेह और सम्मानपूर्वक व्यावहार कर उनके कार्यों का शीघ्र निराकरण करें।

 

Comments

Most Popular

To Top