Army

शहीद कमांडेंट की बेटी ने शहादत स्थल पर फहराया तिरंगा

श्रीनगर। सीआरपीएफ के शहीद कमांडेंट प्रमोद कुमार की छह साल की बेटी अरन्ना ने 15 अगस्त पर ठीक उसी जगह पर तिरंगा फहराया जहां पिछले साल उसके पापा खड़े थे। चंद मिन्टों के अंदर ही कमांडेंट प्रमोद आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए थे। शहीद होने से पहले वह दो आतंकियों को अपने निशाने पर ले चुके थे।





शहीद प्रमोद कुमार

तिरंगा फहराने के बाद इस बेटी ने कहा कि मैं भी अपने पापा की तरह बनूंगी और कंट्री के एनिमी से लड़ूंगी। शहीद के सहयोगी राजेश यादव ने कहा कि मुझे बेटी अरन्ना में प्रमोद की परछाई नजर आती है।

पिछले साल शहीद प्रमोद कुमार कर्णनगर में 49 बटालियन हेडक्वार्टर में सुबह सवा आठ बजे के करीब तिरंगा फहराते हुए परेड की सलामी ली थी। परेड के दरम्यान ही उन्हें खबर मिली की नौहट्टा में आतंकी हमला हुआ, वह बिना देर किए मौके पर पहुंच गए।

अरन्ना अपनी मां नेहा के साथ मंगलवार को यहां कर्णनगर स्थित अपने पापा की बटालियन में 15 अगस्त के मौके पर उन्हें श्रद्धांजलि देने आई थी। नेहा ने कहा, ‘मेरे लिए इससे बढ़कर और गर्व की क्या बात होगी कि एक दिन पहले ही मेरे पति को कीर्ति चक्र प्रदान किया गया है। पति की शहादत के बाद झारखंड के जामताड़ा में अपने माता-पिता के साथ रह रही नेहा ने कहा कि मैं चाहती थी कि मेरी बेटी उस जगह को देखे जहां उसके पिता शहीद हुए। वह खुद यहां आकर उन लोगों से मिलना चाहती थी जिन्होंने उसके पिता की बहादुरी को देखा है। मुझे अपनी पति की शहादत पर गर्व है।’ अरन्ना ने कहा कि पापा नहीं हैं इससे तकलीफ होती है।

शहीद की पत्नी नेहा ने कहा कि मैं जब भी दुखी होती हूं, मुझे जब उनकी याद आती है तो उनके कमरे में चली जाती हूं। उनकी यूनिफॉर्म वाली तस्वीर देखती हूं। बेटी अरन्ना जामताड़ा के एक स्कूल में पहली कक्षा में पढ़ती है।

Comments

Most Popular

To Top