Army

IED से लदी कार का मालिक है आतंकी हिदायतुल्ला मलिक, कार पर लगा था फर्जी नंबर प्लेट

आतंकी हिदायतुल्ला मलिक
फाइल फोटो

श्रीनगर। दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को सुरक्षाबलों पर जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन के आत्मघाती हमले की साजिश नाकाम कर दी गई। सुरक्षाबलों ने राजपोरा इलाके के आयगुंड में 45 किलो आईईडी से लदी एक सेंट्रों कार को खोज निकाला और उसे उड़ा दिया। आतंकियों ने कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगा रखी थी। कार पर दर्ज नंबर कठुआ जिले के निवासी और श्रीनगर में तैनात बीएसएफ के एक जवान की मोटर साइकिल का है।





पुलिस सूत्रों के मुताबिक जिस कार का इस्तेमाल आत्मघाती हमले को अंजाम देने के लिए किया जा रहा था, वह दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के शरतपोरा गांव के रहने वाले हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी हिदायतुल्ला मलिक की है। आतंकी मलिक जुलाई, 2019 से घाटी में आतंक फैला रहा है।

मालूम हो कि पुलिस को पहले से सूचना थी कि दोनों आतंकी संगठन एक साथ मिलकर बड़े आत्मघाती हमले को अंजाम देने की फिराक में हैं। जानकारी यह भी थी कि आतंकी वर्ष 2019 में पुलवामा के लेथपोरा इलाके में सीआरपीएफ के काफिले पर किए गए आत्मघाती हमले की तर्ज पर एक और धमाके को अंजाम देने का षड्यंत्र में हैं।

कश्मीर रेंज के आईजी विजय कुमार ने बताया कि पिछले कई दिन से सूचना मिल रही थी कि जैश-ए-मोहम्मद ने कार में आईईडी लगातार वारदात को अंजाम देने की साजिश रची है। इसी को लेकर बुधवार की देर शाम पुलवामा पुलिस, सीआरपीएफ और सेना के जवानों ने नाका लगाया था। इस दौरान कार सवार आतंकी नाके के पास पहुंचे। सुरक्षाबलों के रुकने का इशारा करने पर कार में सवार आतंकियों ने भागने की कोशिश की और गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाला पर आतंकी अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गए।

Comments

Most Popular

To Top