Army

स्पेशल रिपोर्ट: चीनी सेना से बचाव के लिये भारतीय सेना को मिलेगी मजबूत ड्रेस

गलवान नदी
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारतीय सैनिक जब वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीनी सैनिकों से मिलने जाएंगे या 3,488 किलोमीटर लम्बी वास्तविक नियंत्रण रेखा के इलाके में गश्ती ड्यूटी पर जाएंगे तो वे ऐसे मजबूत परिधान पहनेंगे जो किसी कंटीली बेंत का हमला झेल सकेंगे। इसके अलावा भारतीय सैनिकों के हाथ में भी वैसी ही कंटीली बेंतें होंगी।





15 जून की रात को गलवान घाटी में जब नियंत्रण रेखा के निर्धारण के लिये 06 जून की सहमति को लागू कराने भारतीय सैनिक पहुंचे तो वहां देखा कि चीनी सेना ने भारतीय इलाके में नया ढांचा खड़ा किया है। भारतीय सेना द्वारा इस पर एतराज करने और इसे हटा लेने की जब मांग की गई तो चीनी सैनिक भड़क उठे और उन्होंने निहत्थे भारतीय सैनिकों पर कंटीली बेंतों से हमला बोल दिया। भारतीय सैनिकों के पास अपने शारीरिक बचाव के लिये कुछ नहीं था इसलिये 20 भारतीय सैनिक मारे गए।

सूत्रों का कहना है कि भविष्य में जब भी भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों के साथ आमने-सामने होंगे अपनी सुरक्षा का पूरा इंतजाम कर के ही जाएंगे। भारतीय सैनिकों को ऐसे ही परिधान मुहैया कराने के लिये 500 फुल बॉडी प्रोटेक्टर लद्दाख के इलाकों में भेजे गए हैं।

गौरतलब है कि गत 05 मई को जब पैंगोंग झील के इलाके में भारतीय और चीनी सैनिक आमने सामने हुए थे तब भी भारतीय सैनिकों को इसी तरह के हमले झेलने पडे थे और इस झड़प में कई भारतीय सैनिक घायल हो गए थे। इस घटना से भारतीय सेना ने सबक नहीं लिया और अपनी सुरक्षा के इंतजाम किये बिना ही चीनी सैनिकों के सामने गलवान घाटी में 15 जून की रात को चले गए।

Comments

Most Popular

To Top