Army

स्पेशल रिपोर्ट: जनरल मनोज नरवणे ने कहा- कश्मीर में हालात काबू में

जनरल मुकुंद नरवणे

नई दिल्ली। थलसेना प्रमुख  जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने कहा है कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद -370 लागू होने के बाद से हालात नियंत्रण में हैं।





रक्षा मंत्रालय की पत्रिका सैनिक समाचार को एक इंटरव्यू में जनरल नरवणे न कहा कि जम्मू-कश्मीर नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम के मामले कुछ बढ़े हैं जब कि तोपों से भी गोलाबारी बढ़ी  है। नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम के उल्लंघन के मामले बढने के पीछे मुख्य वजह बताते हुए जनरल नरवणे ने कहा कि  इसका मुख्य इऱादा  घुसपैठ बढ़ाना है।

उन्होंने कहा कि बिना किसी उकसावे के संघर्षविराम तोड़ने और घुसपैठ बढ़ाने के पीछे मुख्य साजिश राज्य में हिंसा को बढ़ाना और कश्मीर  को लेकर अंतरराष्ट्रीय ध्यान आकर्षित कराना है। जनरल नरवणे ने कहा कि पाकिस्तानी हरकतों पर लगाम लगाने के लिये भारतीय थलसेना निरंतर जवाबी कार्रवाई करती है जिसकी वजह से  सीमा पर दुश्मन को भारी नुकसान होता है।

जहां तक राज्य के भीतरी इलाकों का सवाल है जनरल नरवणे ने कहा कि हालात स्थिर करने के लिये सरकारी मशीनरी ने सतत ठोस कार्रवाई की है। आम लोगों पर कई तरह की रोक हटा ली गई है। लोगों द्वारा आन्दोलनकारी गतिविधियों में कमी आई है। ये केवल श्रीनगर और दक्षिण कश्मीर  के कुछ इलाकों तक सीमित है।

जनरल नरवणे ने कहा कि जम्मू-कश्मीर केन्द्र शासित प्रदेश में युवाओं  की अच्छी  आबादी है जिसने पाकिस्तान के प्रोपेगंडा का विरोध किया है और अब वे एक कामयाब और शांतिपूर्ण सफर का हिस्सा हैं।

एक अन्य सवाल के जवाब में जनरल नरवणे ने कहा कि हमारा देश दो मोर्चों पर पारम्परिक सैन्य चुनौतियों का सामना कर रहा है  हमारे प्रतिद्वंद्वी देशों का  प्रभाव भी बढ़ रहा है। तकनीकी क्षेत्र में चीन का अच्छा विस्तार हुआ है जिसका उसे भरपूर लाभ मिला है। दूसरी ओर हिद महासागर में चीन की मौजूदगी बढ़ रही है और साइबर हमले की वारदातें भी बढ रही हैं।

चीन से लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अतिक्रमण की वारदातें अक्सर होती हैं। इन चुनौतियों का मुकाबला कैसे किया जा रहा है इस बारे में जनरल नरवणे ने कहा कि चीन में ऊहान शिखर बैठक के बाद दोनों देशों ने अपनी सेनाओं को सामरिक दिशा निर्देश जारी किये हैं । इसका मुख्य उद्देश्य सीमा पर शांति व स्थिरता बनाए रखना है। इसके अलावा स्थानीय स्तर पर ही मतभेदों को दूर करने की कोशिश की जाती है।

Comments

Most Popular

To Top