Army

स्पेशल रिपोर्ट: कोरोना पीड़ितों के लिये थलसेना के अस्पतालों को किया गया चौकस

सेना का आइसोलेशन सेंटर

नई दिल्ली। अचानक भारी संख्या में  कोरोना पीडितों की सेवा और  किसी भी आपात स्थिति से निबटने के लिये  देश के सभी थलसैनिक अस्पतालों को चौकस कर दिया गया है।





इसके साथ ही विदेशों में फंसे  कोरोना पीडित भारतीय नागरिकों को स्वदेश लाने में वायुसेना ने अपने परिवहन विमानों को तैयार रखा है। चीन के ऊहान शहर से नोवल कोरोनावायरस का प्रकोप फैलने के बाद से  कोरोना के गढ़ माने जाने वाले देशों चीन, ईरान और इटली से भारतीयों को सुरक्षित निकालने में भारतीय सेनाएं युद्धस्तर पर जुटी हैं और अब तक  1095 को भारत लाकर अपने क्वारांटाइन शेल्टर में रखा है।

रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता के मुताबिक एक फरबरी के बाद से  पांच विदेशियों सहित 1059 लोगों को भारतीय वायुसेना ने  निकालकर अपने क्वारांटाइन सेंटर में रखा है। ये सेंटर मनेसर ( हरियाणा),   हिंडन ( उत्तर प्रदेश) ,  घाटकोपर( मुम्बई)  और जैसलमेर( राजस्थान) में रख कर उनकी तीमारदारी की है।

इसके अलावा भारतीय नौसेना ने भी  विशाखापतनम के निकट विश्वकर्मा में  एक क्वारांटाइन कैम्प खोला है। यहां दो सौ कोरोना पीडितों को रखने की सुविधा है।  मुम्बई स्थित आईएनएस अश्विनी में भी भारतीय नौसेना ने  आइसोलेशन फेसिलीटी खोली है।

दक्षिणी नौसैनिक कमांड के तहत कोच्चि स्थित नौसैनिक अड्डा में कोरोना पीडित भारतीय नागरिकों के लिये क्वारांटाइन केन्द्र खोलने की तैयारी चल रही  है।  दक्षिणी नौसैनिक कमांड केरल   के स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिल कर  नागरिक होटलों और रेजोर्टों  को  क्वारांटाइन केन्द्र में बदलने की तैयारी कर रहा है।

 

Comments

Most Popular

To Top