Army

स्पेशल रिपोर्ट: थलसेना की पहल, मौलानाओं का किया सम्मेलन

सेना ने किया मौलवियों का सम्मेलन
प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में थलसेना की हैदरबाग पट्टन स्थित सैन्य छावनी ने बारामुला, सोपोर, पट्टन और तनमर्ग इलाके के मौलानाओं का एक सम्मेलन आयोजित किया और उनके साथ सामाजिक बुराईयों पर चर्चा और उन्हें दूर करने के उपायों पर बातचीत की। मौलानों से सीधा सम्पर्क बनाने का सेना द्वारा इस तरह का पहला आयोजन है।





मौलानाओं के सम्मेलन को हैदरबाग के कमांडर ने सम्बोधित किया। उन्होंने मौलवियों की निस्वार्थ सेवा की सराहना की और राष्ट्रनिर्माण में युवाओं को शिक्षित करने में मौलवियों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया।

थलसेना ने अपने बयान में कहा कि मौलवी सम्मेलन में सबसे पहले मौलवियों का अभिनंदन किया गया। मौलाना सम्मेलन तिलावत से शुरू होने के बाद नाथ शरीफ की रस्म पूरी की गई और मौलवियों की सामाजिक जिम्मेदारी के बारे में एक व्याख्यान आयोजित किया गया। इस दौरान कोरोना वायरस जैसे अन्य सार्वजनिक स्वास्थ्य मसलों और मादक दवाओं की लत, बढ़ती आपराधिक दर पर चर्चा की गई।

सम्मेलन में भाग लेने वाले मौलवियों ने मौलवी सम्मेलन के आयोजन की पहल का स्वागत किया। मौलवियों ने सेना को भरोसा दिलाया कि अवाम के उज्जवल भविष्य के लिये मौलवी लोग सेना के साथ हमसाया की तरह रहेंगे।

Comments

Most Popular

To Top