Army

स्पेशल रिपोर्ट: सेनाओं में अफसरों की भारी कमी का सिलसिला जारी

आर्म्ड फ्लैग डे पर तीनों सेनाओं के जवान

नई दिल्ली।  तीनों सेनाओं में अफसरों की भारी कमी चल रही है औऱ दूसरी ओर सेना से सेवामुक्त होने का सिलसिला भी कम नहीं हो रहा है। युवा अफसर बेहतर करियर के लिये सेना की नौकरी छोड़ रहे है। यही वजह है कि भारतीय थलसेना में  7,399 अफसरों की भारी कमी चल रही है। इसी तरह नौसेना में भी 1,545 कम अफसरों से काम चलाया जा रहा है।





रक्षा मंत्री ने संसंद में एक सवाल के जवाब में उक्त जानकारी देते हुए कहा कि थलसेना में अफसरों की अधिकृत  संख्या 50,312 है जब कि इसमें केवल 42,913 अफसर  ही सेवारत हैं। इसी तरह नौसेना में अफसरों की अधिकृत संख्या 11,557 है जब कि इसमें 10,012 अफसर ही सेवारत हैं। रक्षा मंत्रालय ने वायुसेना के अफसरों की अधिकृत संख्या 12,625 बताई है लेकिन यह साफ नहीं किया है कि इसमें कितने अफसरों की कमी चल रही है।

 सरकार ने यह भी बताया कि 2018 में थलसेना में 412, नौसेना में 102 और वायुसेना में 184 अफसरों ने वक्त से पहले ही सेवा मुक्त हो कर रिटायरमेंट ले लिया। जब कि साल 2017 में थलसेना में 383, नौसेना में 137 और वायुसेना में 205 अफसरों ने रिटायरमेंट ले लिया। वर्ष 2016 में थलसेना में 353, नौसेना में 138 और वयुसेना में 186 अफसरों ने रिटायरमेंट ले लिया।

रक्षा राज्य  मंत्री श्रीपद नायक ने संसद में बताया कि सेनाओं में अफसरों की कमी को दूर करने के लिये कई उपाय किये गए हैं। इसके लिये करियर मेला, प्रदर्शनी, छवि निखारने  और प्रचार अभियान आदि चलाए जा रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top