Army

Special Report: अप्रैल में कश्मीर में 28 आतंकवादी किये गए ढेर

भारतीय सेना
फाइल फोटो

नई दिल्ली। आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का सरगना रियाज नायकू के मारे जाने से जहां सुरक्षाबलों ने राहत की सांस ली हैं वहीं सुरक्षा सूत्रों का कहना है कि आतंकवादियों पर भारी दबाव बना हुआ है। आतंकवादियों के खिलाफ अभियान अप्रैल महीने में काफी तेज किया गया जिसके नतीजे के तौर पर केवल एक महीने में ही सर्वाधिक 28 आतंकवादी मारे गए थे।





मारे गए आतंकवादियों की यह संख्या पिछले साल अगस्त में जम्मू-कश्मीर की धारा- 370 को निरस्त करने के बाद सबसे अधिक है। लेकिन सरकार की चिंता इस बात को लेकर है कि कोरोना महामारी के खिलाफ चल रहे मौजूदा लाकडाउन के बावजूद इस साल के पहले चार महीनों के दौरान राज्य के 35 स्थानीय युवकों ने आतंकवाद की राह पकड़ी है।

राज्य में इस साल पहले चार महीनों के दौरान कुल 67 आतंकवादी मारे गए जिनमें बुधवार को रियाज नायकू के अलावा दो और अन्य आतंकवादी शामिल हैं। गौरतलब है कि साल 2019 के दौरान जम्मू-कश्मीर में 152 आतंकवादी मारे गए थे जब कि 2018 के दौरान 215 आतंकवादी मारे गए। सुरक्षाबलों की कोशिश है कि राज्य में आतंकवाद के प्रति युवकों को आकर्षित होने से कैसे रोका जाए। इसके लिये राज्य क युवकों के बीच खास तरह से संवाद स्थापित किए जा रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top