Army

गलवान हिंसक झड़प में घायल सैनिकों से प्रधानमंत्री ने की मुलाकात, बढ़ाया हौसला

प्रधानमंत्री मोदी ने जवानों से की मुलाकात
फोटो सौजन्य- ट्वीटर

जम्मू। पूर्वी लद्दाख में नियंत्रण रेखा चीन के साथ चल रही तनातनी के बीच शुक्रवार को अचानक लद्दाख पहुंचे प्रधानमंत्री ने 15 जून की रात हुई हिंसक झड़प में घायल हुए जवानों से मुलाकात की। प्रधानमंत्री यहां उस अस्पताल गए जहां इन जवानों का उपचार चल रहा है। इस दौरान उन्होंने जवानों से बात की और उनका हौसला बढ़ाया।





पीएम ने इस झड़प में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी और कहा- जो जांबाज जवान शहीद हुए वो हमें बिना किसी कारण के छोड़कर नहीं गए, आप सब ने उनकी सेना को उचित जवाब दिया। देश की सरहद की सुरक्षा के लिए आपकी बहादुरी और जो खून आपने बहाया वह हमारे युवाओं को और देशवासियों को कई पीढ़ियों तक प्रेरित करता रहेगा।

प्रधानमंत्री ने जवानों से कहा कि हमारा देश किसी भी स्थिति में कभी भी झुका नहीं है और हम दुनिया की किसी भी शक्ति के आगे झुकने वाले नहीं हैं। मैं आपके साथ-साथ उन माताओं को भी सम्मान देता हूं जिन्होंने आप जैसे बहादुरों को जन्म दिया। मैं आशा करता हूं कि आप सब जल्द से जल्द स्वस्थ हो जाएं।

प्रधानमंत्री मोदी ने सैनिकों से कहा कि आपल बहादुरों द्वारा दिखाई गई वीरता के बारे में दुनिया के लिए एक संदेश गया है। जिस तरह आप उनके सामने खड़े हुए दुनिया जानना चाहती है कि ये बहादुर जवान कौन है ? इन्हें किस तरह का प्रशिक्षण मिला है ? पूरी दुनिया आपकी बहादुरी पर चर्चा कर रही है।

प्रधानमंत्री ने सैनिकों से बात करते हुए कहा, आप बहादुरों द्वारा दिखाई गई वीरता के बारे में दुनिया के लिए एक संदेश गया है। जिस तरह आप उनके सामने (चीनी सैनिकों) खड़े हुए दुनिया जानना चाहती है कि ये बहादुर जवान कौन हैं? इन्हें किस तरह का प्रशिक्षण मिला है? इनका बलिदान क्या है? दुनिया आपकी बहादुरी पर चर्चा कर रही है।

गौरतलब है कि 15 जून की रात दोनों देशों की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए थे। चीन ने इस झड़प में अपने हताहत सैनिकों की अभी तक कोई जानकारी साझा नहीं की है।

 

Comments

Most Popular

To Top