Army

2,000 छावनी स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करेगी सेना

भारतीय सेना

नई दिल्ली। देश भर में स्थित 2,000 छावनियों को सेना आधुनिक बनाएगी। सेना इन मिलिटरी छावनियों को स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करने की योजना को अंतिम रूप देने में लगी है। सैन्य अधिकारियों के मुताबिक इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में देश की सभी छावनियों को शामिल किया जाएगा जिसमें पायलट प्रोजोक्ट के तहत 58 छावनियों की पहचान कर ली गई है।





सेना के एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने कहा कि हम मिलिटरी छावनियों को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करना चाहते हैं जहां सभी आधुनिक सुविधाएं होंगी। नई टेक्नॉलोजी से लैस आईटी नेटवर्क इसकी मुख्य विशेषता होगी। पिछले दिनों हुई कमांडर कॉन्फ्रेंस के दौरान, आला अधिकारियों ने इस परियोजना के क्रियान्वयन के लिए विस्तार से चर्चा की थी।

ऑफिसर के मुताबिक, सभी छावनियों को समयबद्ध तरीके से विकसित करने की योजना है। यह पहल सेना के उस आधुनिकीकरण अभियान का हिस्सा है, जिसमें देशभर के सभी सैन्य प्रतिष्ठानों के बुनियादी ढांचे को बेहतर करने की परिकल्पना की गई है। सशस्त्र बलों की जंगी क्षमता बढ़ाने और रक्षासे जुड़े खर्चों को नए तरीके से बैलेंस करने के लिए तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के कार्यालय में रक्षा मंत्रालय ने लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डीबी शेकतकर की अध्यक्षता में एक्सपर्ट्स की एक कमेटी बनाई थी। कमेटी ने अपनी रिपोर्ट पिछले वर्ष दिसंबर में सौंप दी थी।

रक्षा मंत्रालय ने कमेटी की 99 सिफारिशों को सशस्त्र बलों के पास भेजा ताकि इन पर अमल की योजना बनाई जा सके। रक्षा मंत्री रहते हुए अरुण जेटली ने पहले चरण में इनमें से 65 सिफारिशों को मंजूरी दी थी। सरकार ने कहा है कि इन सुधारों को 31 दिसंबर 2019 तक पूरा कर लिया जाएगा।

 

Comments

Most Popular

To Top