Army

फील्ड मार्शल करिअप्पा को मिले ‘भारत रत्न’: सेना प्रमुख

करिअप्पा और बिपिन रावत

नई दिल्ली। भारतीय सेना के सर्वोच्च पद कमांडर इन चीफ ‘फील मार्शल’ के एम करिअप्पा के लिए सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने ‘भारत रत्न’ देने की मांग की है। जनरल रावत ने कहा है कि अब समय आ गया है कि करिअप्पा को ‘भारत रत्न’ से नवाजा जाए। सेना प्रमुख ने कहा है कि जब समाज के विभिन्न क्षेत्रों के महानुभावों को उनके उल्लेखनीय कार्यों के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया जा सकता है तो मुझे यह समझ नहीं आता कि आखिर फील्ड मार्शल करिअप्पा इस सम्मान को पाने के हकदार क्यों नहीं है ?





फील्ड मार्शल कोडैंद्र मदप्पा करिअप्पा ने साल 1947 में हुए भारत-पाकिस्तान की जंग में पश्चिमी सीमा पर भारतीय सेना का नेतृत्व किया था। करिअप्पा ने आजादी से पहले भी और आजादी के बाद भी में सेना की कमान संभाली और 94 साल की उम्र में उनका निधन हो गया।

भारतीय सेना के उन दो सूरवीरों में करिअप्पा शामिल हैं जिन्हें सेना का सर्वोच्च गरिमापूर्ण ओहदा फील्ड मार्शल का दिया गया। फील्ड मार्शल सैम मानेकशा दूसरे ऐसे अधिकारी थे जिन्हें फील्ड मार्शल की पदवी दी गई।

Comments

Most Popular

To Top