Army

वार्ताकार नियुक्ति का असर ऑपरेशन पर नहीं पड़ेगा: रावत

बिपिन-रावत

नई दिल्ली। आर्मी चीफ बिपिन रावत ने कहा कि कश्मीर समस्या पर बात करने के लिए नियुक्त किए वार्ताकार का घाटी में चल रहे सैन्य ऑपरेशन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सरकार कश्मीर मुद्दे पर बात करते हुए मजबूत स्थिति में है। कश्मीर में घुसपैठ मामलों में कमी आई है और हालात में सुधार हुए हैं।





सेना अध्यक्ष बिपिन रावत एक कार्यक्रम में मीडियाकर्मियों से कहा कि जम्मू-कश्मीर पर सरकार की मौजूदा नीति से राज्य के हालात में व्यापक सुधार हुआ है। यह पूछे जाने पर कि इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व प्रमुख दिनेश्वर शर्मी को वार्ताकार नियुक्त करने से क्या राज्य में सेना के अभियान पर इसका असर होगा, जिसपर उनका जवाब था कि मेरा एक शब्द में उत्तर है, नहीं ऐसा नहीं होगा।

सरकार ने कश्मीर के हालात के मद्देनजर सभी पक्षों के साथ मिलकर बातचीत के लिए सोमवार को शर्मा को अपना विशेष प्रतिनिधि नियुक्त किया। जब उनसे सवाल पूछा गया कि वार्ताकार की नियुक्ति इस बात का संकेत है कि कश्मीर पर सरकार की कठोर रणनीति काम नहीं कर रही है, आर्मी चीफ ने कहा कि मुझे ऐसा नहीं लगता। सरकार की नीति फलदायी रही है। सरकार मजबूत स्थिति में रहते हुए वार्ता कर रही है।

बिपिन रावत ने कहा कि पिछले कुछ महीनों में सीमा पार से होने वाली घुसपैठ के मामलों में कमी आई है और कुल मिलाकर राज्य की स्थिति में सुधार हुए हैं। उन्होंने कहा कि हमने एलओसी पर आतंकियों को मार गिराया है, जिससे हालात बेहतर हुए हैं।

Comments

Most Popular

To Top