Army

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने काशी में जवानों के लिए की प्रार्थना, कहा हर तरह से तैयार सेना

वाराणसी। अपने वाराणसी दौरे पर पहुंचे थल सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत शुक्रवार को काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद मीडिया से मुखातिब हुए। जनरल रावत ने कहा कि उन्होंने मंदिर में सेना के जवानों की सुरक्षा और सीमा के बचाव के लिए प्रार्थना की।





जनरल रावत गुरूवार शाम  साढ़े चार बजे सेना के विशेष विमान से लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पहुंचे थे। वहां से गोरखा प्रशिक्षण केंद्र होकर रानी घाट गए जहां से मोटर बोट में सवार होकर दशाश्वमेध घाट पहुंचे। वह पत्‍‌नी सहित दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती में शामिल हुए।

जनरल रावत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘हमारे पास हथियारों की कमी नहीं है। हम शांतिप्रिय देश हैं। शान्ति के पक्षधर हैं लेकिन यदि हमें कोई छेड़ेगा तो हम उसे छोड़ेंगे भी नहीं। उन्होंने कहा कि हमें बदलते वक्त के साथ अपनी हथियार तकनीक को  बेहतर करना होगा और सेना को इस नई तकनीक से लैस करना होगा ताकि दुश्मन से लोहा ले सकें।’

गुरुवार को काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करने पहुंचे थल सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत

जनरल रावत ने गुरुवार की रात 39 गोरखा ट्रेनिंग सेंटर (जीटीसी) में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए और जवानों  को 200 वर्ष पूरा होने पर बधाई दी। रावत ने अपने संबोधन में कहा, ‘रेजीमेंट ने 200 सालों में इतिहास रचा है। 39 जीटीसी ने देश के लिए बहुत कुछ किया है। वर्तमान में सेना हर तरह से जवाब देने के लिए तैयार है और किसी भी तरह के हमले से किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है। इस समारोह में शामिल होना भाग्यशाली है।’

उन्होंने इस अवसर पर फ‌र्स्ट डे कवर (डाक टिकट जारी करने के दिन की मुहर का लिफाफा) और सैनिक सम्मान पुस्तक का विमोचन भी किया। इस अवसर पर उन्होंने दो लाख रुपये का चेक नाइन जीआर को दिया।

Comments

Most Popular

To Top