Featured

सुरभि ऐसे बनीं इंडियन नेवी एयर ट्रैफिक कंट्रोलर इम्तहान की टॉपर

सुरभि जादौन

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना ने अपने लड़ाकू सहित अन्य विमानों के संचालन के लिए देशभर से 6 महिला एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स (ATC) चुने हैं। इन छह ATC में इंदौर के एक इंजीनियरिंग कॉलेज से इलेक्ट्रॉनिक एंड कम्युनिकेशन में बीई कर चुकीं सुरभि जादौन हैं। वह टॉपर भी रही हैं। मालूम हो कि सुरभि उन चुनिंदा प्रतिभागियों में से है जिन्होंने SSB  के बाद तीन घंटे तक चले पर्सनल इंटरव्यू को पास किया बल्कि शिखर पर अपनी जगह बनाई।





कहानी थोड़ी दिलचस्प है। सुरभि एक साधारण परिवार से है। एक समय तो ऐसा आ गया कि उनकी पढ़ाई करनी भी मुश्किल हो गई। किसी सगे-संबंधियों के मदद से अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी की। बाद में इंजीनियरिंग में दाखिला लिया। कर्नल निखिल दीवानजी ने सुरभि को नौसेना की पूरी जानकारी और ट्रेनिंग दी। सुरभि बतातीं हैं कि इन लोगों के बगैर कामयाबी हासिल करना संभव नहीं था। इंजीनियरिंग के दूसरे साल ही सुरभि ने आमदनी के लिए ट्यूशन पढ़ाना शुरू कर दिया। फरवरी, 2018 में उन्होंने इस पद के लिए आवेदन किया। बाद में उन्हें साक्षात्कार के लिए बुलाया गया।

बता दें कि विमानों के संचालन में मानसिक स्थिरता सबसे अहम होती है। विपरीत परिस्थितियों में धैर्य कैसे बनाए रखना बेहद जरूरी होता है। बैंगलुरु में हुए एसएसबी इंटरव्यू में शारीरिक और मानसिक योग्यता का टेस्ट हुआ। एक टेस्ट में तो सुरभि को एक कमरे में 3 घंटे बैठा कर रखा गया ताकि मेंटल स्ट्रेंथ की जांच हो सके।

सायकॉलोजिकल या प्रेशर टेस्ट में 30 सेकंड के लिए एक फोटो दिखाई जाती है जिसमें अगले चार मिनट में उस फोटो पर आधारित एक कहानी लिखनी होती है। इस तरह करीब 12 फोटो दिखाई जाती हैं। SRT (सिचुएशन रिएक्शन टेस्ट) में 60 परिस्थितियां दी जाती हैं जिसमें आप फंसे होते हैं। पर ऐसे में आप उस वक्त क्या निर्णय लेते हैं ये देखा जाता है। DRDO के सायकॉलोजिस्ट आपके जवाबों को जांच कर मालूम करते हैं कि आपकी मेंटल स्ट्रेंथ लेवल क्या है। इन सब से गुजरते हुए सुरभि आज इस मुकाम पर पहुंचीं हैं और वह देश की युवतियों के लिए प्रेरणाश्रोत भी बनीं हैं।

Comments

Most Popular

To Top