Featured

स्पेशल रिपोर्ट: चीन के रक्षा मंत्री के साथ होगी अहम बातचीत

लेफ्टिनेंट जनरल वेई फंगह

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच  आपसी भरोसा का माहौल पैदा करने के लिये चीन के रक्षा मंत्री  लेफ्टिनेंट जनरल वेई फंगह (WEI FengHe ) भारत के चार  दिनों के दौरे पर यहां  21 अगस्त  को पहुंचे। उनकी यहां भारतीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ परस्पर विश्वास गहरा करने के इरादे से कई अहम मसलों पर 23 अगस्त  को  बातचीत होगी।





इस बातचीत के पहले चीनी रक्षा मंत्री ने यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की और आपसी सम्बन्धों को गहरा करने के बारे में चर्चा की।

जनरल फंगह के भारत रवाना होने के पहले चीन ने कहा है कि सैन्य क्षेत्रों सहित सभी क्षेत्रों में चीन और भारत के रिश्ते सुधर रहे हैं।  पिछले साल भूटान के दावे वाले डोकलम इलाके में भारत औऱ चीन के बीच 73 दिनों तक चली सैन्य तनातनी के बाद चीन की ओर से यह पहला उच्चस्तरीय भारत दौरा है। गौरतलब है कि भारतीय रक्षा मंत्री सीतारमण की चीनी रक्षा मंत्री के साथ यह दूसरी मुलाकात होगी। पिछले साल अप्रैल में रक्षा मंत्री सीतारमण ने पेइचिंग का दौरा किया था।  सीतारमण का चीन दौरा पेइचिंग में शांघाई सहयोग संगठन की बैठक के सिलसिले में हुआ था लेकिन चीनी रक्षा मंत्री खासकर भारतीय समकक्ष के साथ आपसी हितों के विभिन्न मसलों पर बात करने आए हैं।

माना जा रहा है कि  दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों की बैठक इस साल अप्रैल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की  चीन के राष्ट्रपति शी चिन फिंग के साथ अनौपचारिक शिखर बैठक के नतीजों को आगे बढ़ाने वाली होगी। इस दौरान कई मसलों पर दोनों पक्षों के बीच सहमति बनी थी जिसे व्यवहार में लाने के नजरिये से चीनी रक्षा मंत्री का भारत दौरा काफी अहम माना जा रहा है।

चीनी रक्षा मंत्री के भारत दौरे पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि कुछ वक्त से आप देख रहे होंगे कि भारत औऱ चीन के रिश्तों में धीरे धीरे सुधार हो रहा है।  हर क्षेत्र में दोनों पक्षों से आदान प्रादन और सहयोग बढ़ा है। इसमें दोनों देशों की सेनाओं के बीच भी आदान प्रदान शामिल है।

रोचक बात यह है कि चीनी रक्षा मंत्री का भारत दौरा एक दिन पहले ही जापान के ऱक्षा मंत्री के भारत दौरे के समापन के बाद हुआ है। जापान और भारत ने एक साझा बयान जारी किया है जो चीन को नागवार गुजर सकता है। इसलिये भारत को देखना होगा कि चीनी रक्षा मंत्री के साथ बातचीत में किस तरह का संतुलन बनाने वाला रुख अपनाया जाए।

Comments

Most Popular

To Top