Featured

स्पेशल रिपोर्ट: मिस्र और भारत के बीच और गहरा होगा रक्षा सहयोग

मिस्र में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण

नई दिल्ली। मिस्र और भारत के बीच आने वाले दिनों में रक्षा  औऱ सैन्य सहयोग औऱ गहरे होंगे।  इन मसलों पर बात करने भारतीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने 20  से 22  सितम्बर को मिस्र की राजधानी काहिरा का दौरा किया और मिस्र के साथ रक्षा साज सामान के साझा उत्पादन के बारे में भी बातचीत की।





मिस्र औऱ भारत के बीच पारम्परिक दोस्ती रही है और दोनों देश साठ से अस्सी के दशक के बीच निर्गुट आन्दोलन के साथी रहे हैं। दो साल पहले मिस्र के राष्ट्रपति अल सीसी ने भारत का दौरा किया था और दोनों देशों के बीच नये युग में नई साझेादारी की बात कही थी। इसी के अनुरुप दोनों देशों ने रक्षा क्षेत्र में भी सहयोग गहरा करने का फैसला किया है। सीतारमण के मिस्र दौरे से अब दोनों देशों के बीच   रिश्तों में रक्षा व सैन्य सहयोग के नये आयाम जुडेंगे। मिस्र के लिये किसी भारतीय रक्षा मंत्री का यह पहला दौरा था। रक्षा मंत्री सीतारमण  ने अपने समकक्ष जनरल मोहम्मद जकी अहमद के साथ दि्वपक्षीय बातचीत में साझा सैन्य अभ्यास और समुद्री सहयोग पर भी बात की।

इस बातचीत से पहले मिस्र के रक्षा मंत्रालय में उनकी अगवानी सलामी गारद के साथ की गई।  बाद में उन्होंने मिस्र के  स्वर्गीय नेता अनवर सादत की कब्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किये।  वह मिस्र के शहीद स्मारक पर भी गए। इस बातचीत के दौरान मिस्र के रक्षा मंत्री को  निर्मला सीतारमण ने  भारत दौरे पर आमंत्रित किया जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया।

इस बातचीत में दोनों रक्षा मंत्रियों ने  रक्षा साज सामान के साझा उत्पादन की सम्भावना पर चर्चा की।  दोनों पक्षों ने आतंकवाद के खिलाफ लड़़ाई में भी सहयोग करने की बात की। दोनों देशों की सेनाओं  के बीच साझा सैन्य अभ्यासों का सिलसिला शुरु करने पर सहमति के बाद दोनों देशों के सैन्य अधिकारी इसकी रुपरेखा तय करने के लिये एक दूसरे के यहां दौरे करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top