Featured

Special Report: संयुक्त राष्ट्र से हिंदी में प्रसारण शुरू

सुषमा स्वराज

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र में भले ही हिंदी को कामकाज की भाषा बनाने की भारतीय मांग अबतक स्वीकृत नहीं हुई हो संयुक्त राष्ट्र के रेडियो प्रसारणों पर हिंदी में समाचार जारी होने लगे है। इसके अलावा फेसबुक और ट्वीटर जैसे सोशल मीडिया पर भी हिंदी में संदेश देखे जा सकेंगे।





मारीशस में 18 से 20 अगस्त तक आयोजित हो रहे विश्व हिंदी सम्मेलन के मौके पर यहां मीडिया से बातचीत में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हिंदी में रेडियो प्रसारण 23 जुलाई से शुरु हो चुका है। फिलहाल यह प्रसारण साप्ताहिक चलेगा औऱ फीडबैक के आधार पर इसकी अवधि बढ़ाई जाएगी।

विदेश मंत्री ने दावा किया कि हिंदी को राष्ट्र भाषा बनाने के लिये भारत को जरूरी 129 सदस्यों का बहुमत मिल जाएगा लेकिन इसका वित्त पोषण एक समस्या बन रहा है। समर्थन करने वाले देशों को इसका वित्तीय योगदान भी करना होगा औऱ कई छोटे देश यह भार नहीं वहन कर सकते हैं इसलिये यह मुमकिन नहीं हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि जर्मनी और जापान ने भी अपनी भाषा को कामकाज की भाषा बनवाने के लिये अपनी ओऱ से वित्त पोषण की पेशकश की थी लेकिन संयुक्त राष्ट्र के नियम इसकी अनुमति नहीं देते।

विदेश मंत्री ने कहा कि इसके बावजूद हिंदी को संयुक्त राष्ट्र की भाषा बनवाने के लिये कोशिश जारी रहेगी। अपना संकल्प जाहिर करने के लिये ही संयुक्त राष्ट्र में प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री के सभी सम्बोधन हिंदी में ही हुए हैं। उन्होंने कहा कि नागपुर में पहली बार हुए विश्व हिंदी सम्मेलन में यह सिफाऱिश की गई थी कि वहां हिंदी को कामकाज की भाषा के तौर पर मान्यता मिले। भारत को इसमें अब तक आंशिक सफलता मिली है।

सुषमा स्वराज ने कहा कि विश्व हिंदी सम्मेलन की अनुशंसाओं को ठंढे बस्ते में डाल दिया जाता था लेकिन पहली बार पिछले भोपाल सम्मेलन के दौरान जो अनुशंसाएं की गई थीं उन्हें लागू करने के लिये एक समिति का गठन किया गया है जिसकी रिपोर्ट मारीशस में हो रहे 11 वें विश्व हिंदी सम्मेलन के दौरान पेश की जाएगी। इस सम्मेलन में भाग लेने के लिये अब तक 1422 ने पंजीकरण करवाया है लेकिन सरकार की ओऱ से भी आधिकारिक शिष्टमंडल के तौर पर 377 प्रतिनिधियों का जत्था विशेष विमान से मारीशस जाएगा।

Comments

Most Popular

To Top