Featured

स्पेशल रिपोर्ट: नौसेना को मिला दुश्मन को परेशान करने वाला एक और पोत

LCU-L55

नई दिल्ली।  दुश्मन के समुद्र तट पर मुख्य युद्धक टैंक, बख्तरबंद वाहन , सैनिक साज सामान और सैनिकों को उतारने वाला एक और  पोत भारतीय नौसेना को पोर्ट ब्लेयर स्थित नौसैनिक अड्डे पर सौंपा गया। लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी (LCU L 55) नाम का यह पोत देश में बना पांचवां पोत है जिसे नौसेना में बुधवार को नौसेना के वाइस चीफ वाइस एडमिरल अजीत कुमार द्वारा  कमीशन किया गया।





एल- 55  मार्क- IV  वर्ग का यह पोत कोलकाता स्थित गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स (GRSE)   द्वारा  निर्मित और देश में ही डिजाइन किया गया है। इस पोत के कमीशन होने से पता चलता है कि युद्धपोतों के स्वदेशी डिजाइन और निर्माण में भारत काफी क्षमतावान हो  चुका है।

एलसीयू- मार्क IV एक एम्फीबियस पोत है जिसकी प्राथमिक भूमिका मेन बैटल टैंक टी-72 , आरमर्ड वेहीकल्स, सैनिकों औऱ साज सामान को पोत से समुद्र तट पर उतारने की है।  अंडमान एवं निकोबार स्थित यह पोत कई भूमिकाओं में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें समुद्र तट की कार्रवाई,  खोज एवं बचाव,  आपदा राहत आपरेशन ,  सैनिक साज सामान की सप्लाई और दूर दराज के द्वीपों  से अपने लोगों को सुरिक्षत निकालने की कार्रवाई शामिल है।

 830 टन विस्थापन क्षमता वाले इस पोत पर पांच अफसर और 5 नाविक सवार हो सकते हैं और यह 160 सैनिकों को ढो सकता है। इस पोत पर अत्याधुनिक प्रणालियां लगी हैं। इनमें इंटीग्रेटेड ब्रिज सिस्टम और इंटीग्रेटेड प्लैटफार्म मैनेजमेंट सिस्टम शामिल है।

 इसी वर्ग के तीन और पोत जीआरएसई द्वारा बनाये जाने के अडवांस्ड स्टेज पर हैं। ये  तीनों पोत अगले डेढ़ साल में नौसेना में शामिल हो जाएंगे। इस पोत को नौसेना में शामिल करने से भारत की समुद्री सुरक्षा की जरुरतों को पूरा किया जाएगा औऱ यह प्रधानमंत्री के मेक इन इंडिया कार्यक्रम के अनुरुप है।

Comments

Most Popular

To Top