Featured

संसदीय समिति की रिपोर्ट: ITBP की 82 प्रतिशत सीमा चौकियां प्रदूषित जल पर निर्भर

आईटीबीपी
आईटीबीपी जवान (फाइल फोटो)

चंडीगढ़। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) की 82 प्रतिशत सीमा चौकियों में तैनात जवानों को प्रदूषित जल पर निर्भर होना पर रहा है। यह खुलासा गृह मंत्रालय की संसदीय समिति ने 12 दिसंबर को संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में किया है।





खास बात यह है कि बर्फ से ढकी चोटियां ताजे जल की सबसे बड़ी भंडार हैं, बावजूद इसके हिमालयी सीमा पर पहरा दे रहे अधिकतर जवानों को यह स्वच्छ जल नहीं मिल पा रहा है। वे इसके लिए प्रदूषित श्रोतों पर निर्भर हैं। हैरानी की बात यह है कि ITBP की केवल 18 प्रतिशत सीमा चौकियों की पाइप लाइन या बोरवेल से प्राप्त पीने वाले जल तक पहुंच है।

कमेटी ने कहा है कि वह यह देख कर हैरान है कि शेष 82 प्रतिशत चौकियों में पीने का पानी नदियों और झरनों से ही प्राप्त होता है जो प्रदूषित है। कमेटी ने पीने के साफ पानी को व्यक्ति का मौलिक अधिकार बताते हुए ITBP को कहा है कि उक्त सभी चौकियों पर साफ पानी की व्यवस्था करे और छह महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट दे।

 

Comments

Most Popular

To Top