Featured

राष्ट्रपति कोविंद ने दिए 22 बच्चों को वीरता-साहस के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार

राष्ट्रपति कोविंद ने दिए पुरस्कार

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में देश के होनहार और बहादुर 22 बच्चों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से नवाजा। गैर सरकारी संस्था भारतीय बाल कल्याण परिषद (इंडियन काउंसिल ऑफ चाइल्ड वेलफेयर) ने इन पुरस्कारों की घोषणा की थी। पुरस्कार पाने वाले बच्चों में 02 केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर से हैं।





वीरता पुरस्कार पाने वालों 22 बच्चों में 10 लड़कियां व 12 लड़के शामिल हैं। एक बच्चे को मरणोपरांत यह पुरस्कार दिया गया।

भारतीय बाल कल्याण परिषद पर वित्तीय गड़बड़ी के आरोप की वजह से बीते साल बाल विकास मंत्रालय ने खुद को इन पुरस्कारों से अलग कर लिया था। इस वजह से पिछले साल से इंडियन काउंसिल ऑफ चाइल्ड वेलफेयर (ICCW) ही पुरस्कार दे रही है।

वीरता पुरस्कार के लिए चुने गए बच्चे इस बार गणतंत्र दिवस परेड में भाग नहीं लेंगे। ICCW ने इस साल से पुरस्कारों के नाम भी बदल दिए हैं। बता दें कि पहले पुरस्कारों के नाम संजय चोपड़ा, गीता चोपड़ा, बापू गेधानी नाम से दिए जाते थे लेकिन इस बार इनके नामों में तबदीली की गई है अब ये पुरस्कार अभिमन्यु पुरस्कार, मार्कंडेय पुरस्कार, ध्रुव पुरस्कार, प्रह्लाद पुरस्कार और श्रवण नाम से दिए जाते थे।

जम्मू-कश्मीर के 2 बच्चों को भी वीरता पुरस्कार

अभिमन्यु पुरस्कार केरल के 16 वर्षीय मोहम्मद मुहसिन को, प्रह्लाद पुरस्कार ओडिशा की 10 वर्षीय श्रीमतीबदरा को दिया गया। श्रवण पुरस्कार जम्मू-कश्मीर के 16 वर्षीय सरताज मोहीदीन मुगल को मिला। जम्मू-कश्मीर के ही मुदासिर अशरफ को वीरता पुरस्कार दिया गया।

भारत पुरस्कार के अन्तर्गत 50 हजार, 04 पुरस्कारों के तहत 40 हजार रुपये की राशि व अन्य बच्चों को 20 हजार रुपये की राशि दी जाएगी। अलावा इसके परिषद आगे की पढ़ाई के लिए वित्तीय सहायता भी प्रदान करती है।

 

Comments

Most Popular

To Top