Featured

भारत सरकार ने राफेल सौदे पर केवल रिलायंस का नाम दिया थाः ओलांद

नई दिल्ली। राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर सरकार और प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के बीच मचे घमासान में अब और उबाल आ गया है। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने नया खुलासा करते हुए कहा है कि राफेल सौदे के लिए भारत सरकार की तरफ से केवल अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस डिफेंस इंडस्ट्रीज का नाम प्रस्तावित किया था।





इस पर रक्षा मंत्रालय ने फिर स्पष्ट किया है कि इसमें न भारत सरकार की कोई भूमिका है और न ही फ्रांस सरकार की। रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के बयान की जांच की जा रही है।

उधर राफेल डील में मचे सियासी घमासान के बीच फ्रांस सरकार ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि भारतीय औद्योगिक पार्टनर के चयन में उसकी किसी तरह की भूमिका नहीं रही है। फ्रांस सरकार ने जोर देकर कहा कि फ्रेंच कंपनी को कॉन्ट्रेक्ट के लिए भारतीय कंपनी का चुनाव करने की पूरी आजादी रही है। फ्रांस सरकार ने यह भी कहा है कि Dassault ने सबसे बेहतर विकल्प को चुना। फ्रेंच कंपनी Dassault ने भी बयान जारी कर कहा है कि उसने ऑफसेट पार्टनर ने भी खुद रिलायंस का चुनाव किया था।

गौरतलब है कि फ्रांसीसी वेबसाइट मीडियापार्ट ने प्रकाशित एक साक्षात्कार में ओलांद का हवाला देते हुए कहा गया है कि भारत सरकार ने Dassault के साथ ऑफसेट समझौते के लिए रिलायंस डिफेंस इंडस्ट्री के नाम का प्रस्ताव किया था और उनकी सरकार के पास दूसरा विकल्प नहीं था।

कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट कर कहा कि वे इस खुलासे के लिए ओलांद का धन्यवाद देते हैं। इससे साबित होता है कि राफेल सौदे को परदे के पीछे किस तरह बदला गया।

 

Comments

Most Popular

To Top