Featured

ओमान के रक्षा मंत्री से होगी अहम बात

ओमान के सुल्तान काब्बूस के साथ पीएम मोदी
ओमान के सुल्तान काब्बूस के साथ पीएम मोदी (सौजन्य- गूगल)

नई दिल्ली।  गत फरवरी में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ओमान दौरे में सामरिक महत्व के दुक्म बंदरगाह का इस्तेमाल भारत को करने देने के लिये समझौते के बाद खाड़ी के देश ओमान के रक्षा मामलों के मंत्री  बद्र सऊद हरीब अल बुसैदी भारत के अहम दौरे पर 26 सितंबर  को यहां आएंगे।





माना जा रहा है कि इस दौरान वह भारत और ओमान के बीच हुए रक्षा सहयोग को समझौते को अमल में लाने के लिये यहां भारतीय रक्षा अधिकारियों से बातचीत करेंगे। बुधवार को उनकी रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण  के साथ नीतिगत मामलों पर शिखर नेताओं के बीच लिये गए फैसलों को व्यवहार में लाने पर बातचीत होगी। प्रधानमंत्री के ओमान दौरे में रक्षा सहयोग के लिये एक पूरक समझौते पर हस्ताक्षर किये गए थे।

गौरतलब है कि ओमान का दुक्म बंदरगाह भारत के लिये सामरिक तौर पर काफी महत्वपुर्ण माना जाता है।दोनों देशों के बीच यह सहमति बनी है कि भारत इस  बंदरगाह पर अपने युद्धपोतों की सर्विसिंग और ईंधन भरने में इस्तेमाल कर सकता है। इस तरह अरब सागर में भारत को एक और महत्वपूर्ण बंदरगाह पर अपनी छाप छोड़ने का मौका मिलेगा।

 प्रधानमंत्री मोदी के ओमान दौरे में यह भी सहमति बनी थी कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच साझा सैनिक अभ्यास होंगे और ओमान के सैनिकों को  भारतीय सैन्य  प्रतिष्ठानों में ट्रेनिंग दी जाएगी।

हिंद महासागर में चीनी नौसैनिक पोतों की मौजूदगी पर नजर रखने और  किसी तनातनी के बीच इनसे मुकाबला करना आसान  होगा। दुक्म सामरिक तौर पर काफी अहम बंदरगाह है जहां से चीनी नौसेना को  बेहतर चुनौती दी जा सकती है। दुक्म बंदरगाह पर भारतीय नौसैनिक पोतों को ईंधन लेने की सुविधा से भारतीय पोतों की पहुंच बढ़ाई जा सकती है।

गत फरवरी में प्रधानंमत्री मोदी के ओमान दौरे में जो साझा बयान जारी किया गया था उसमें सामरिक और सुरक्षा सहयोग की गहराई को स्वीकार करते हुए कहा  गया था कि  दोनों देश सामरिक साझेदारी को एक नई  उंचाई पर ले जाना चाहते हैं।

Comments

Most Popular

To Top